Tuesday, October 27, 2020
More
    Home National कृषि विधेयक के विरोध में आज भारत बंद, सड़कों पर उतरे किसान...

    कृषि विधेयक के विरोध में आज भारत बंद, सड़कों पर उतरे किसान संगठन

    नई दिल्ली, 25 सितम्बर (आईएएनएस)। संसद से पारित तीन कृषि विधेयकों को लेकर किसान संगठनों ने शुक्रवार को भारत बंद का एलान किया है। उत्तर प्रदेश, पंजाब और हरियाणा समेत देशभर के किसान कृषि से जुड़े इन विधेयकों के विरोध में लामबंद हो रहे हैं। सबसे ज्यादा विरोध पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में हो रहा है। हरियाणा में भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) के प्रदेश अध्यक्ष गुराम सिंह ने अंबाला से फोन पर बताया कि पूरा हरियाणा बंद रहेगा। किसान अपने घरों से निकल चुके हैं और जगह-जगह सड़कों पर इकट्ठा होने लगे हैं। पंजाब में भाकियू के प्रदेश अध्यक्ष अजमेर सिंह लखोवाल ने भी बताया कि किसान अपने-अपने घरों से कूच कर चुके हैं और पूरे प्रदेश में करीब 400 जगहों पर लामबंद हो रहे हैं।

    उत्तर प्रदेश में भी किसानों का सड़कों पर उतरना शुरू हो गया है। भारतीय किसान संगठन के प्रदेश अध्यक्ष राजेंद्र यादव ने बताया कि उनके संगठन से जुड़े किसान नोएडा, गाजियाबाद, हापुड़, बागपत समेत कई जगहों पर सड़क जाम करेंगे।

    भाकियू प्रवक्ता राकेश टिकैत ने आईएएनएस को बताया कि 11 बजे से पूरे देश में चक्का जाम है। हालांकि उन्होंने बताया कि यह बंद सिर्फ सड़कों पर रहेगा रेल रोको का कोई आयोजन नहीं है। टिकैत ने कहा, शहरों में प्रवेश करना या शहरों की दुकानों को बंद करने का प्रयास करना हमारे बंद के आयोजन में शामिल नहीं है। हम सिर्फ मुख्य मार्गों और गावों की सड़कों को जाम करके विधेयक पर अपना सांकेतिक विरोध जताएंगे।

    उन्होंने कहा कि विचारधारा व दलों की राजनीति के दायरे से बाहर आकर किसानों के हितों के लिए काम करने वाले तमाम संगठनों से इस बंद का समर्थन करने की अपील की गई है और ज्यादातर संगठन इस बंद में शामिल हैं।

    कृषि से जुड़े तीन अहम विधेयकों, कृषक उपज व्यापार एवं वाणिज्य (संवर्धन एवं सुविधा) विधेयक 2020, कृषक (सशक्तीकरण व संरक्षण) कीमत आश्वासन और कृषि सेवा पर करार विधेयक 2020 और आवश्यक वस्तु (संशोधन) विधेयक-2020 को भी संसद की मंजूरी मिल चुकी है। ये तीनों विधेयक कोरोना काल में पांच जून को घोषित तीन अध्यादेशों की जगह लेंगे।

    लखोवाल ने आईएएनएस से कहा कि केंद्र सरकार अगर किसानों के हितों में सोचती तो विधेयक में सभी फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारंटी का प्रावधान किया जाता कि किसानों के किसी भी उत्पाद (जिनके लिए एमएमपी की घोषणा की जाती है) की खरीद एमएसपी से कम भाव पर न हो। उन्होंने कहा कि विधेयक में कॉरपोरेट फॉमिर्ंग के जो प्रावधान किए गए हैं उससे खेती में कॉरपोरेट का दखल बढ़ेगा और बहुराष्ट्रीय कंपनियों को फायदा मिलेगा।

    किसान संगठन विधेयक वापस लेने की मांग कर रहे हैं।

    पीएमजे-एसकेपी



    Source link

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Most Popular

    अमेरिकी रक्षा कंपनियां आसान एफडीआई नियमों का लाभ उठाएं : राजनाथ

    नई दिल्ली, 27 अक्टूबर (आईएएनएस)। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को अमेरिकी रक्षा कंपनियों से इस क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी...

    J&K: बाहर का निवासी भी कश्मीर में खरीद सकेगा जमीन, उमर अब्दुल्ला ने केंद्र के फैसले का विरोध किया

    डिजिटल डेस्क, श्रीनगर। केंद्र सरकार ने मंगलवार को  जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लिए भूमि कानून से जुड़ा नोटिफिकेशन जारी किया। कानून...

    कांग्रेस ने सोना तस्करी मामले को लेकर फिर साधा केरल के मुख्यमंत्री पर निशाना

    तिरुवनंतपुरम, 27 अक्टूबर (आईएएनएस)। केरल में सोना तस्करी मामले में कांग्रेस पार्टी सत्तारूढ़ मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) पर लगातार हमलावर बनी...

    उमर अब्दुल्ला नए भूमि कानून पर खींझे, कहा- जम्मू-कश्मीर बिक्री के लिए तैयार!

    श्रीनगर, 27 अक्टूबर (आईएएनएस)। केंद्र सरकार ने मंगलवार को बड़ा फैसला लेते हुए नोटिफिकेशन जारी करके कहा है कि अब जम्मू-कश्मीर...

    Recent Comments

    WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com