Thursday, October 22, 2020
More
    Home Dharm पंचक: आज से शुरू हुआ पंचक नक्षत्र, इन बातों का रखें ध्यान

    पंचक: आज से शुरू हुआ पंचक नक्षत्र, इन बातों का रखें ध्यान

    डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। हिन्दू धर्म में कई सारे रीति रिवाज, ग्रह और नक्षत्रों को माना जाता है। जिनके अनुसार शुभ और अशुभता का संकेत मिलता है। इनमें से एक है पंचक, जिसके आरंभ होते ही सभी में एक अलग तरह का छुपा हुआ भय सताने लगता है कि ‘पंचक’ लग गया है इसमें ये कार्य आरंभ किया जाय या न किया जाय। ये जानने की जिज्ञासा उन सभी को रहती है जो इन दिनों में आवश्यकता वश कार्य आरंभ करने के लिए विवश रहते हैं। इस बार पंचक 28 सितंबर 2020 को सोमवार से लग रहे हैं।

    ज्योतिष के महानतमग्रन्थ ‘मुहूर्त चिंतामणि’ के अनुसार घनिष्ठा, शतभिषा, पूर्वा भाद्रपद, उत्तरा भाद्रपद तथा रेवती ये नक्षत्र पर जब चन्द्रमा गोचर करते हैं तो उस काल को पंचक काल कहा गया है पूर्व और उत्तर भारत में इसे ‘भदवा’ भी कहते हैं। आइए जानते हैं इस पंचक और इस समय में रखी जाने वाली सावधानियों के बारे में… 

    जानें कब है पद्मिनी एकादशी, इस पूजा से मिलेगा हजारों वर्षों की तपस्या जितना फल

    शुभ पंचक
    वैसे तो पंचक अशुभ माना जाता है, लेकिन सोमवार से प्रारंभ होने वाला पंचक राज पंचक कहलाता है। यह पंचक शुभ माना जाता है। मान्यता है कि इसके प्रभाव से पांच दिनों में कार्यों में सफलता मिलती है। खासकर सरकारी कार्यों में सफलता के योग बनते हैं साथ ही संपत्ति से जुड़े काम करना भी शुभ होता है।

    ना करें ये कार्य
    – पंचक में चारपाई बनवाना ठीक नहीं माना गया है, माना जाता है कि इससे कोई बड़ा संकट खड़ा हो सकता है।
    – इस समय में घनिष्ठा नक्षत्र होने पर घास, लकड़ी आदि जलने वाली वस्तुएं इकट्ठी नहीं करना चाहिए, इससे आग लगने का भय रहता है।

    नवरात्रि 2020: 17 अक्टूबर से शुरू होगी नवरात्रि, देखें किस देवी की किस दिन होगी पूजा

    – पंचक के दौरान दक्षिण दिशा में यात्रा नही करनी चाहिए। क्योंकि दक्षिण दिशा, यम की दिशा मानी गई है। इन नक्षत्रों में दक्षिण दिशा की यात्रा करना हानिकारक माना गया है।
    – पंचक के दौरान जब रेवती नक्षत्र चल रहा हो, उस समय घर की छत नहीं बनाना चाहिए, ऐसा विद्वानों का कहना है। इससे धन हानि और घर में क्लेश होता है।
    – पंचक में शव का अंतिम संस्कार करने से पहले किसी योग्य पंडित की सलाह अवश्य लेनी चाहिए। यदि ऐसा न हो पाए तो गरुड़ पुराण के अनुसार शव के साथ पांच पुतले आटे या कुश (एक प्रकार की घास) से बनाकर अर्थी पर रखना चाहिए और इन पांचों का भी शव की तरह पूर्ण विधि-विधान से अंतिम संस्कार करना चाहिए, तो पंचक दोष समाप्त हो जाता है।  



    Source link

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Most Popular

    इलेक्ट्रिक स्कूटर: Hero ने लॉन्च किया नया Nyx-hx, सिंगल चार्ज में चलेगा 210 km

    डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। दुनियाभर की कंपनियां इलेक्ट्रिक वाहनों को बाजार में उतार रही हैं। इसी बीच देश की प्रमुख दो...

    Coronavirus India: देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 77 लाख के पार, 24 घंटे में आए 55 हजार केस

    डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस महामारी का संक्रमण हर दिन बढ़ता जा रहा है। देश में कुल संक्रमितों...

    IPL-13: लीग स्टेज के 40वें मैच में आज राजस्थान-हैदराबाद आमने-सामने, स्मिथ से पिछली हार का बदला लेना चाहेंगे वॉर्नर

    डिजिटल डेस्क। इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के 13वें सीजन का 40वां मैच आज सनराइजर्स हैदराबाद (SRH) और राजस्थान रॉयलस (RR) के...

    सफल परीक्षण: DRDO ने पोखरण में किया ‘नाग’ एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल का आखिरी ट्रायल

    डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन द्वारा निर्मित नाग एंटी टैंक गाइडेड देसी मिसाइल का सफल परीक्षण किया गया।...

    Recent Comments