Thursday, October 29, 2020
More
    Home National मप्र के विधानसभा उप-चुनाव में अब राष्ट्रवाद की एंट्री

    मप्र के विधानसभा उप-चुनाव में अब राष्ट्रवाद की एंट्री

    भोपाल, 29 सितंबर (आईएएनएस)। मध्य प्रदेश में होने वाले विधानसभा के उप-चुनाव से पहले राजनीतिक दलों में तकरार तेज हो गई है। अब तो राष्ट्रवाद की भी एंट्री हो गई है और राजनीतिक दलों को राष्ट्रद्रोही और देशभक्त बताया जाने लगा है।

    राज्य में 28 विधानसभा सीटों पर उप-चुनाव होना है और यह कांग्रेस और भाजपा के लिए जीने और मरने जैसी लड़ाई है। यही कारण है कि दोनों दल एड़ी चोटी का जोर लगाए हुए हैं। एक तरफ जहां दल-बदल का दौर जारी है, वहीं दूसरी ओर एक दूसरे को घेरने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी जा रही है।

    एक तरफ जहां आम जनता से जुड़े किसान कर्ज माफी, बिजली बिल, मुआवजा जैसे मुद्दे राजनीतिक दल उठाने में लगे हैं, तो दूसरी ओर व्यक्तिगत हमले भी बोले जा रहे हैं। इन हमलों में अब तो बात गद्दार, बिकाऊ से आगे चलकर राष्ट्रवाद तक पहुंचने लगी है।

    राज्य सरकार की मंत्री ऊषा ठाकुर ने तो भाजपा को राष्ट्रवादी और कांग्रेस को राष्ट्र विरोधी विचारधारा करार देते हुए कहा, भाजपा और कांग्रेस के बीच वैचारिक युद्घ है। ये देशभक्त और देशद्रोही के बीच का चुनाव है जिनको राष्टवादिता से प्रेम था, वे भाजपा के साथ हैं, जो राष्ट्रवाद से विमुख हुए वे कांग्रेस में चले गए।

    कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता दुर्गेश शर्मा ने कहा है कि यह तो देश जानता है कि देशभक्त और देशद्रोही कौन है, वास्तविकता यह है कि भाजपा जनता का वास्तविक मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए इस तरह की बयानबाजी करती है। आगामी समय में होने वाले विधानसभा के उप-चुनाव में उसे हार नजर आ रही है, लिहाजा वे जनता का ध्यान बांटने के लिए स्तरहीन बयान दे रही है, जनता सब जानती है और उप-चुनाव में सबक मिलेगा भाजपा को।

    राजनीतिक विश्लेषक मानते है कि उप-चुनाव में तल्खी रहेगी, इस बात के संकेत तो अभी से बयानबाजी में ही नजर आ रहे है। कांग्रेस छोड़कर गए पूर्व विधायकों को जहां कांग्रेस बिकाऊ, गद्दार कह रही है, वहीं भाजपा भी नए नारों और मुद्दों को गढ़ेगी ही। कुल मिलाकर आने वाले दिनों में बहुत कुछ नया सुनने को मिलेगा, क्योंकि मतदाताओं को अपने जाल में फंसाना तो राजनीतिक दलों का लक्ष्य है।

    ज्ञात हो कि राज्य में 28 विधानसभा क्षेत्रों में उप-चुनाव होने वाले हैं। इन चुनाव में भाजपा को जहां पूर्ण बहुमत पाने के लिए नौ स्थानों पर जीत हासिल करनी है, वहीं कांग्रेस को सभी 28 स्थानों पर जीत जरुरी है। विधानसभा में कुल सदस्य संख्या 230 की है, पूर्ण बहुमत के लिए 116 सदस्य होना जरुरी है। वर्तमान में भाजपा के पास 107 और कांग्रेस के पास 89 सदस्य ही हैं। वहीं चार निर्दलीय, दो बसपा और एक सपा का विधायक है।

    एसएनपी-एसकेपी



    Source link

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Most Popular

    नोएडा : 2 विदेशी नागरिक कर रहे थे एटीएम कार्ड की क्लोनिंग, गिरफ्तार

    गौतमबुद्धनगर (नोएडा), 29 अक्टूबर (आईएएनएस)। पुलिस कमिश्नरेट गौतमबुद्धनगर की साइबर क्राइम टीम ने एटीएम कार्ड की क्लोनिंग कर करोड़ों की ठगी...

    IPL-2020: हार के बाद बोले विराट- हम जो भी शॉट्स मार रहे थे, फील्डरों के हाथ में जा रहे थे

    डिजिटल डेस्क, अबू धाबी। मुंबई इंडियंस के हाथों बुधवार को मिली पांच विकेट से हार के बाद रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर के...

    गुरुग्राम में 21 साल की युवती से दुष्कर्म

    गुरुग्राम, 29 अक्टूबर (आईएएनएस)। हरियाणा की साइबर सिटी गुरुग्राम के सेक्टर-44 स्थित फोर्टिस अस्पताल में भर्ती 21 साल की एक युवती...

    Bihar Election 2020: दूसरे और तीसरे चरण में और ताकत झोंकेगी भाजपा, 30 स्टार प्रचारक करेंगे सभाएं

    डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। बिहार विधानसभा चुनाव में पहले चरण की 71 सीटों पर बुधवार को मतदान खत्म हो जाने के...

    Recent Comments

    WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com