Thursday, March 4, 2021
More
    Home Crime बडख़ेरा हत्याकांड - 6 गिरफ्तार : लगातार झगड़ों के बाद दिलीप समेत...

    बडख़ेरा हत्याकांड – 6 गिरफ्तार : लगातार झगड़ों के बाद दिलीप समेत चार को मारने का बनाया था प्लान

    डिजिटल डेस्क सतना। उचेहरा थाना क्षेत्र के बडख़ेरा में युवक की हत्या पुरानी रंजिश और जमीन के विवाद पर की गई थी। पुलिस ने इस रहस्य का पर्दाफाश करते हुए वारदात में शामिल महिला समेत 6 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस अधीक्षक रियाज इकबाल ने बताया कि 31 जुलाई की रात को घर के बाहर सो रहे दिलीप उर्फ भूरा तिवारी पुत्र रामभगवान तिवारी 35 वर्ष की हत्या चेहरा कुचलकर की गई थी। यह वारदात सामने आने पर धारा 302, 201 का अपराध पंजीबद्ध कर जांच-पड़ताल शुरू की गई तो पता चला कि मृतक और उसके परिवार के सदस्य सुनील तिवारी का जमीन को लेकर गांव के ही यादव परिवार से विवाद चल रहा था। इसके अलावा घटना स्थल का परीक्षण करते समय पुलिस डॉग भी सुनीता यादव पति हेमराज 35 वर्ष के घर तक गया था। ऐसे में संदेह के आधार पर महिला को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई तो उसने पहले गलत जानकारी देकर बरगलाने का प्रयास किया, मगर जब मनोवैज्ञानिक तरीके अपनाए गए तो उसने  रिश्तेदार रामकरण यादव उर्फ लक्खा पुत्र संतोष यादव 20 वर्ष निवासी सोनवर्षा, राजन यादव पुत्र रामपाल 24 वर्ष, राकेश यादव पुत्र रामप्रसाद यादव 21 वर्ष निवासी कारीगोही थाना धारकुंडी, मोनू कोल पुत्र रामचरण कोल 34 वर्ष निवासी टिकरिया जिला चित्रकूट और लवकेश उर्फ कमलेश कोल पुत्र लाला कोल 24 वर्ष निवासी सोनवर्षा के साथ मिलकर दिलीप की हत्या करने का जुर्म स्वीकार कर लिया। तब पुलिस ने अलग-अलग जगह दबिश देकर 5 अन्य आरोपियों को भी गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों के कब्जे से वारदात में प्रयुक्त डंडा, कपड़े और मोबाइल जब्त किए गए। 
    महिला ने भड़काया, तब बनाई योजना
    पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि मृतक के परिजन सुनील ने एक जमीन खरीदकर कल्लू कोल और सूरज यादव को खेती के लिए ठेके पर दे दिया था। इस जमीन से निकलने को लेकर सुनीता व रामकरण के परिवारों से विवाद चल रहा था। हर झगड़े में दिलीप अपने परिवार की तरफ से आगे खड़ा हो जाता था। इतना ही नहीं कल्लू के जरिए पूर्व में उचेहरा अजाक थाने में शिकायत भी कराई गई थी। लगातार झगड़ों से परेशान होकर सुनीता ने रामकरण से सुनील, दिलीप, कल्लू और सूरज को सबक सिखाने के लिए कहा। वारदात के कुछ दिन पहले से दोनों के बीच अक्सर बात होती थी। ऐसे में युवक ने रिश्तेदारों और कुछ दोस्तों के साथ मिलकर कत्ल का प्लान बनाकर 31 जुलाई की रात सभी को एकत्र कर लिया। इसके बाद आरोपी अपने मंसूबे पूरे करने के लिए निकल पड़े और दिलीप के घर बाहर पहुंचकर सोते समय उसे पकड़ लिया और लाठी से नाक, मुंह व चेहरे पर प्राणघातक चोट पहुंचाकर हत्या कर दी। वारदात के बाद सभी आरोपी भाग निकले। अंधी हत्या का खुलासा करने में साइबर सेल ने अहम भूमिका निभाई। पकड़े गए आरोपियों में राकेश के खिलाफ धारकुंडी थाने में भैंस चोरी का अपराध दर्ज है, जिसमें उसकी तलाश चल रही थी। 
     



    Source link

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Most Popular

    Recent Comments