Saturday, December 5, 2020
More
    Home Politics बिहार : 61 फीसदी मतदाताओं ने कहा चिराग पासवान और भाजपा साथ...

    बिहार : 61 फीसदी मतदाताओं ने कहा चिराग पासवान और भाजपा साथ हैं

    नई दिल्ली, 25 अक्टूबर (आईएएनएस)। बिहार चुनाव को लेकर एक अहम बात सामने आई है। यहां के 61 प्रतिशत मतदाताओं को लगता है कि चिराग पासवान की लोजपा और भाजपा एक-दूसरे के साथ काम कर रही हैं।

    बिहार के विधानसभा चुनावों को लेकर शनिवार को जारी हुए एबीपी-सीवोटर के जनमत सर्वे के अनुसार, 61 प्रतिशत मतदाताओं ने कहा कि वास्तव में लोजपा और भाजपा अंदरुनी तौर पर एक-दूसरे के साथ काम कर रहे हैं।

    इस बात के कयास लगाए जा रहे हैं कि चिराग पासवान बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमला कर रहे हैं और राज्य के चुनावों में भाजपा का समर्थन कर रहे हैं। इस सवाल पर कि चुनाव के बाद चिराग पासवान राजद से हाथ मिलाएंगे या नहीं। इस पर सर्वे में 53.3 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने कहा कि चुनाव के बाद राजद और लोजपा हाथ मिला सकते हैं जबकि 46.7 प्रतिशत ने इसका नकारात्मक जबाव दिया।

    अधिकांश लोगों को यह भी लगता है कि लोजपा के बाहर होने से भाजपा गठबंधन को नुकसान होगा। सर्वे में 59.3 प्रतिशत ने कहा कि इससे भाजपा गठबंधन को नुकसान होगा, जबकि 40.7 प्रतिशत ने इससे इनकार किया।

    असली एनडीए कौन है इस पर भी मतदाता के मन में भ्रम है। 42.7 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने कहा कि भले ही लोजपा एनडीए से बाहर चली गई है, फिर भी असली एनडीए, भाजपा और लोजपा हैं। वहीं 57.3 फीसदी ने कहा कि भाजपा-जदयू गठबंधन ही असली गठबंधन है।

    एक तरफ जहां चिराग पासवान ने बिहार चुनाव में अकेले जाने का फैसला किया है, वहीं दूसरी ओर वे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की तारीफ कर रहे हैं और चुनावों के बाद भाजपा के साथ गठबंधन करने की बात कर रहे हैं। क्या इसे लेकर मतदाता में भ्रम की स्थिति है, इस पर 57.7 प्रतिशत लोगों ने कहा कि हां इसे लेकर भ्रम की स्थिति है, जबकि 42.3 प्रतिशत ने कहा कि ऐसा कोई भ्रम नहीं है।

    यह सर्वे 30,678 लोगों पर 1 अक्टूबर से 23 अक्टूबर के बीच किया गया है। वहीं पिछले 12 हफ्तों में ट्रैकर द्वारा कुल 60 हजार से अधिक लोगों को बतौर सैंपल इसमें शामिल किया गया है। इसके अलावा सर्वे 243 विधानसभा क्षेत्रों को कवर कर रहा है और इसमें त्रुटि का मार्जिन राज्य स्तर पर प्लस/माइनस 3 प्रतिशत और क्षेत्रीय स्तर पर प्लस/माइनस 5 प्रतिशत है।

    इसमें इस्तेमाल किया गया डेटा ज्ञात जनगणना आंकड़ों पर आधारित है। सर्वे में पिछले लोकसभा और विधानसभा चुनावों में हुए मतदान के अलावा लिंग, आयु, शिक्षा, ग्रामीण/शहरी, धर्म और जाति आदि का डेटा शामिल है।

    एसडीजे-एसकेपी



    Source link

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Most Popular

    भारत में किसानों को शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने का अधिकार है : गुटेरेस के प्रवक्ता

    संयुक्त राष्ट्र, 5 दिसम्बर (आईएएनएस)। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस के प्रवक्ता स्टीफन डुजारिक ने कहा है कि भारत में किसानों को शांतिपूर्ण...

    Coronavirus India: देश में अबतक 96 लाख लोग संक्रमित, 24 घंटे में आए 36 हजार केस

    डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और...

    उत्तर भारत की भव्य शादियों में चोरी करने के लिए लीज पर लिए जाते हैं बच्चे

    नई दिल्ली, 5 दिसंबर (आईएएनएस)। जिस उम्र में बच्चों को स्कूल जाना चाहिए, उस उम्र में मध्य प्रदेश के राजगढ़ जिले के गांवों...

    स्मार्टफोन: Micromax IN 1b पहली बार 10 दिसंबर को बिक्री के लिए होगा उपलब्ध, जानें इसकी खूबियां

    डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। भारतीय स्मार्टफोन निर्माता कंपनी Micromax (माइक्रोमैक्स) ने बीते माह नवंबर में चीनी स्मार्टफोन को टक्कर देने अपने दो हैंडसेट लॉन्च...

    Recent Comments