Friday, November 27, 2020
More
    Home National J&K: बाहर का निवासी भी कश्मीर में खरीद सकेगा जमीन, उमर अब्दुल्ला...

    J&K: बाहर का निवासी भी कश्मीर में खरीद सकेगा जमीन, उमर अब्दुल्ला ने केंद्र के फैसले का विरोध किया

    डिजिटल डेस्क, श्रीनगर। केंद्र सरकार ने मंगलवार को  जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लिए भूमि कानून से जुड़ा नोटिफिकेशन जारी किया। कानून में संशोधन के बाद अब बाहर के लोग भी केंद्र शासित प्रदेश में जमीन खरीद सकेंगे। हालांकि खेती की जमीन खरीदने पर अभी भी रोक रहेगी। केंद्र ने जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन के तहत यह आदेश जारी किया है। यह कानून तत्काल प्रभाव से लागू हो गया है। नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने केंद्र के इस फैसले का विरोध किया है। अब्दुल्ला ने ट्वीट कर कहा, जम्मू-कश्मीर के भूमि कानूनों जो बदलाव किया गया है, वह स्वीकार नहीं किया जा सकता है। अब कश्मीर की सेल चालू होगी और छोटे जमीन मालिकों को तकलीफ होगी।

    5 अगस्त 2019 को हटाया गया था आर्टिकल 370 और 35-ए
    बता दें कि 5 अगस्त 2019 को आर्टिकल 370 और 35-ए के प्रावधानों को खत्म कर दिया गया था। उसके बाद 31 अक्टूबर 2019 को जम्मू-कश्मीर और लद्दाख केंद्र शासित प्रदेश बन गया। इसके बाद से ही इस बात की पूरी संभावना थी कि जल्द ही कश्मीर में जमीन की खरीद-फरोख्त की इजाजत भी दे दी जाएगी। अब केंद्र शासित प्रदेश के एक साल पूरे होने पर जमीन के कानून में बदलाव किया गया है। अगस्त 2019 से पहले जम्मू-कश्मीर की एक अपनी अलग संवैधानिक व्यवस्था थी। उसके तहत जम्मू-कश्मीर के सिर्फ स्थायी नागरिकों (जिनके पास राज्य का स्थायी नागरिकता प्रमाण पत्र हो) को ही जमीन खरीदने की अनुमति थी। किसी अन्य राज्य का कोई नागरिक चाहकर भी जम्मू-कश्मीर में अपने घर, दुकान, कारोबार या खेतीबाड़ी के लिए जमीन नहीं खरीद सकता था।

    क्या कहा गृह मंत्रालय ने?
    गृह मंत्रालय ने अपनी रिलीज में कहा कि इस आदेश को केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन (केंद्रीय कानूनों का अनुकूलन) तीसरा आदेश, 2020 कहा जाएगा। आदेश में कहा गया है कि सामान्य आदेश अधिनियम, 1897 इस आदेश की व्याख्या के लिए लागू होता है क्योंकि यह भारत के क्षेत्र में लागू कानूनों की व्याख्या के लिए है। जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने कहा, ‘हम चाहते हैं कि बाहर के उद्योग जम्मू-कश्मीर में स्थापित हों, इसलिए औद्योगिक भूमि में निवेश की जरूरत है। लेकिन खेती की जमीन सिर्फ राज्य के लोगों पास ही रहेगी।



    Source link

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Most Popular

    श्रीनगर के नवनिर्वाचित मेयर जुनैद मट्टू अपनी पार्टी में हुए शामिल

    श्रीनगर, 27 नवंबर (आईएएनएस)। श्रीनगर नगर निगम (एसएमसी) के मेयर चुने जाने के एक दिन बाद, जुनैद मट्टू शुक्रवार को अपनी पार्टी में...

    सुदेवा दिल्ली एफसी का लक्ष्य आई-लीग में टॉप-6 में रहना होगा : संस्थापक

    नई दिल्ली, 27 नवंबर (आईएएनएस)। पहली बार हीरो आई-लीग में खेलने जा रही सुदेवा दिल्ली एफसी के संस्थापक अनुज गुप्ता ने शुक्रवार को...

    भाजपा सांसद का दावा- टीएमसी के 50 से ज्यादा नेता पार्टी छोड़ बीजेपी में होंगे शामिल (एक्सक्लूसिव)

    नई दिल्ली, 27 नवंबर(आईएएनएस)। पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी सरकार से मंत्री सुवेंदु अधिकारी और पार्टी के विधायक मिहिर गोस्वामी के इस्तीफा देने...

    वैक्सीन मिलने पर, कुछ हफ्तों में पूरी दिल्ली को वैक्सीन लगा सकते हैं : सत्येंद्र जैन

    नई दिल्ली, 27 नवंबर (आईएएनएस)। कोरोना की वैक्सीन उपलब्ध होने के बाद लोगों को यह दवा कैसे दी जाएगी, दिल्ली सरकार ने इसकी...

    Recent Comments