Sunday, November 29, 2020
More
    Home Education चौथी कट ऑफ लिस्ट से पहले ही फुल दिल्ली विश्वविद्यालय की कई...

    चौथी कट ऑफ लिस्ट से पहले ही फुल दिल्ली विश्वविद्यालय की कई सीटें

    नई दिल्ली, 1 नवंबर (आईएएनएस)। दिल्ली विश्वविद्यालय के कई पाठ्यक्रमों में दाखिला प्रक्रिया को बंद कर दिया गया है। वहीं दिल्ली यूनिवर्सिटी ने चौथी कट ऑफ लिस्ट जारी कर दी है। इस बार कट-ऑफ में एक से दो प्रतिशत की कमी की गई है। दिल्ली विश्वविद्यालय में विभिन्न अंडर ग्रेजुएट पाठ्यक्रमों की 64 प्रतिशत सीटें पहले ही फुल हो चुकी हैं।

    दिल्ली विश्वविद्यालय ने आधिकारिक जानकारी देते हुए कहा, चौथी कट-ऑफ सूची के तहत प्रवेश दो नवंबर से शुरू होगा। विश्वविद्यालय की 70,000 सीटों में से अब तक 45,542 सीटें भर चुकी हैं। इन 70 हजार में से 55,000 से अधिक सीटों पर नामांकन हुआ था, लेकिन दाखिला रद्द होने और वापस लेने के बाद यह संख्या अब 45,542 है।

    चौथी कट-ऑफ सूची में कई पाठ्यक्रमों में दाखिला विभिन्न श्रेणियों के लिए बंद कर दिया गया है। इस वर्ष, कोरोना वायरस महामारी के कारण दिल्ली विश्वविद्यालय में प्रवेश प्रक्रिया पूरी तरह से ऑनलाइन चल रही है।

    वहीं दिल्ली विश्वविद्यालय में शैक्षणिक वर्ष 2020-21 के लिए संशोधित पोस्ट ग्रेजुएशन के एंट्रेंस और मेरिट आधारित एडमिशन इस वर्ष दिसंबर तक पूरे किए जा सकेंगे। दिसंबर में दाखिला प्रक्रिया पूरी होने के उपरांत नए सत्र की कक्षाएं प्रारंभ हो सकेंगी

    दिल्ली विश्वविद्यालय में पोस्ट ग्रेजुएट पाठ्यक्रमों के लिए पहली मेरिट लिस्ट दीपावली के बाद जारी की जाएंगी। एडमिशन लेने के इच्छुक छात्र 18 नवंबर से 20 नवंबर के बीच पहली मेरिट लिस्ट के आधार पर अपने पसंदीदा पाठ्यक्रमों में दाखिले के लिए आवेदन कर सकते हैं।

    दिल्ली विश्वविद्यालय प्रशासन ने कहा, एंट्रेंस बेस्ड पीजी पाठ्यक्रमों के लिए पहली मेरिट लिस्ट दीपावली के बाद जारी की जाएंगी और छात्र 23 नवंबर तक एडमिशन फीस भर कर दाखिला ले सकते हैं। दाखिला प्रक्रिया पूरी होने के बाद दिल्ली विश्वविद्यालय इस वर्ष दिसंबर से पोस्ट ग्रेजुएट छात्रों के लिए कक्षाएं शुरू कर सकता है।

    दिल्ली विश्वविद्यालय के मौजूदा शैक्षिक सत्र 2020-21 में दाखिला लेने वाले, दिल्ली से बाहर के छात्र हॉस्टल को लेकर भी चिंतत हैं। ऐसे छात्र लगातार दिल्ली विश्वविद्यालय से पूछ रहे है कि दाखिला के बाद क्या उन्हें हॉस्टल (छात्रावास) की सुविधा मिल सकेगी। कोरोना के चलते हॉस्टल को लेकर दिल्ली विश्वविद्यालय ने अभी तक कोई स्पष्ट नीति तय नहीं की है।

    दिल्ली विश्वविद्यालय में अभी तक यह भी तय नहीं है कि दाखिला लेने के बाद कॉलेज खुलेंगे या नहीं। फस्र्ट ईयर के दाखिला के बाद अगर कॉलेज खुलते हैं तो हॉस्टल लेने की प्रक्रिया में भी काफी समय लगेगा।

    दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रोफेसर हंसराज ने कहा, डीयू द्वारा हॉस्टल नीति स्पष्ट न किए जाने पर दिल्ली टीचर्स एसोसिएशन (डीटीए) ने चिंता जताई है। टीचर्स एसोसिएशन ने विश्वविद्यालय प्रशासन से मांग की है कि वह कॉलेजों को इस संदर्भ में जल्द ही सर्कुलर जारी करे।



    Source link

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Most Popular

    किसान आंदोलन: तीसरे दिन टिकरी और सिंघु बार्डर पर डटे किसान, चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात, शाह के आह्वान पर हो सकती है बातचीत

    डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। केंद्र सरकार द्वारा पारित तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी है। दिल्ली चलो मार्च के...

    छत्तीसगढ़: नक्सलियों ने सुकमा जिले के ताड़मेटला इलाके में किया आईईडी विस्फोट, CRPF के 5 जवान घायल

    डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले के ताड़मेटला इलाके में नक्सलियों के एक IED विस्फोट में कोबरा 206 (CoBRA 206) बटालियन...

    चीन का नया पैंतरा, कहा- भारत ने दुनियाभर में फैलाया कोरोना, ब्रिटेन यूनिवर्सिटी ने दावे को किया खारिज

    डिजिटल डेस्क, बीजिंग। कोरोना वायरस का पूरे विश्व में फैलाने वाले चीन ने अब नई चाल चली है। चीन एक वैज्ञानिक रिपोर्ट के...

    म्यांमार से आए और 8 रोहिंग्या असम में गिरफ्तार

    गुवाहाटी, 29 नवंबर (आईएएनएस)। असम में आठ और रोहिंग्या मुसलमानों के असम में गिरफ्तार होने के साथ ही 22 म्यांमार की महिलाओं और...

    Recent Comments