Saturday, November 28, 2020
More
    Home Dharm कोरोना जैसी महामारी आएंगी और चली जाएंगी, स्वस्थ रहने को शाकाहार और...

    कोरोना जैसी महामारी आएंगी और चली जाएंगी, स्वस्थ रहने को शाकाहार और साधु-संतों की संयमित जीवन चर्या अपनाएं

    डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

    जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
    भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

    ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
    कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था। 



    Source link

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Most Popular

    साइक्लोनिक सर्कुलेशन के कारण बंगाल की खाड़ी में बन रहा कम दबाव का क्षेत्र

    अमरावती, 27 नवंबर (आईएएनएस)। चक्रवात निवार के प्रभाव में आने से पहले ही हिंद महासागर और उससे सटे अंडमान सागर में एक और...

    दिल्ली चलो आंदोलन के बीच सच्ची पंजाबी भावना

    चंडीगढ़, 27 नवंबर (आईएएनएस)। दुनिया भर के आपदा प्रभावित क्षेत्रों और नागरिक संघर्ष क्षेत्रों में मानवीय सहायता प्रदान करने वाली पंजाबी भावना अब...

    शादी सामारोह में पीपीई किट पहन नाचा शख्स, वीडियो वायरल

    जयपुर, 27 नवंबर (आईएएनएस)। सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है, जिसमें होम आइसोलेशन रहने वाले एक आदमी को...

    केरल के मामलों में महज अपना काम कर रही हैं केंद्रीय एजेंसियां : मुरलीधरन

    तिरुवनंतपुरम, 27 नवंबर (आईएएनएस)। केंद्रीय मंत्री वी. मुरलीधरन ने शुक्रवार को भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी-मार्क्‍सवादी (माकपा) के राज्य सचिव ए. विजयराघवन पर पटलवार किया,...

    Recent Comments