Tuesday, November 24, 2020
More
    Home National ISRO: रडार इमेजिंग सैटेलाइट और ईओएस-01 उपग्रह सफलतापूर्वक लॉन्च, पीएम मोदी ने...

    ISRO: रडार इमेजिंग सैटेलाइट और ईओएस-01 उपग्रह सफलतापूर्वक लॉन्च, पीएम मोदी ने दी बधाई


    डिजिटल डेस्क, श्रीहरिकोटा (आंध्र प्रदेश)। भारत के पोलर सैटेलाइट लॉन्च व्हिकल (PSLV-सी49) रॉकेट ने अर्थ ऑब्जर्वेशन सैटेलाइट EOS-01 (Earth Observation Satellite EOS-01) और 9 विदेशी उपग्रहों को लेकर शनिवार को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से सफल उड़ान भरी। 10 उपग्रहों के साथ रॉकेट ने भारतीय समयानुसार दोपहर 3.02 बजे सतीश धवन स्पेस सेंटर (एसडीएससी) के पहले लॉन्च पैड से उड़ान भरी।

    ISRO के अनुसार 630 किलोग्राम वजनी EOS-01, एक पृथ्वी अवलोकन उपग्रह है, जिसका उद्देश्य कृषि, वानिकी और आपदा प्रबंधन में सहायता करना है। बाकी नौ विदेशी उपग्रहों में लिथुआनिया से (1-आर2, टेक्नॉलजी डेमनस्ट्रेटर), लक्समबर्ग से (क्लेओस स्पेस का 4 मैरिटाइम एप्लीकेशन सैटेलाइट) और अमेरिका से (4-लीमर मल्टी मिशन रिमोट सेंसिंग सैटेलाइट) हैं। इस बार ISRO ने PSLV रॉकेट के लिए डीएल वैरिएंट का इस्तेमाल किया जिसमें सिर्फ दो स्ट्रैप-बूस्टर मोटर्स हैं। स रॉकेट वैरिएंट का इस्तेमाल पहली बार 24 जनवरी, 2019 को माइक्रोसेट आर उपग्रह को कक्षा में रखने के लिए किया गया था।

    सभी मौसम की स्थिति में तस्वीरें ले सकता है EOS-01
    बता दें कि 44.5 मीटर लंबा PSLV-C49 का प्राथमिक पैसेंजर सिंथेटिक एपर्चर रडार (SAR) से लैस भारतीय रडार इमेजिंग उपग्रह EOS-01 है जो सभी मौसम की स्थिति में तस्वीरें ले सकता है। उपग्रह दिन और रात में तस्वीरें ले सकता है और निगरानी के साथ-साथ सिविलियन गतिविधियों के लिए उपयोगी होगा।

    ISRO के ​वैज्ञानिकों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बधाई दी
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस सफल लॉन्चिंग के लिए ISRO को बधाई दी है। मोदी ने एक ट्वीट में लिखा कि मैं ISRO और भारत के अंतरिक्ष उद्योग को PSLV-C49/EOS-01 अभियान की सफल लॉन्चिंग के लिए बधाई देता हूं। हमारे वैज्ञानिकों ने समय सीमा पूरी करने के लिए कई बाधाओं को पार किया।

    ISRO ने कहा है कि EOS-01 कृषि, वानिकी और आपदा प्रबंधन सहायता में प्रयोग किए जाने वाला एक पृथ्वी अवलोकन उपग्रह है। संगठन ने बताया है कि दूसरे देशों के उपग्रहों को अंतरिक्ष विभाग के न्यूस्पेस इंडिया लिमिटेड (NSIL) के साथ वाणिज्यिक समझौते के तहत लॉन्च किया गया है।

    ताजा जानकारी के अनुसार EOS-01 सफलतापूर्वक PSLV-सी49 के चौथे चरण से अलग होकर ऑर्बिट में पहुंच गया है। अन्य नौ विदेशी कस्टमर सैटेलाइट भी अलग होकर अपने निर्धारित ऑर्बिट में पहुंचा दिए गए हैं। PSLV-C49/EOS-01 अभियान की उलटी गिनती शुक्रवार दोपहर 1.02 बजे शुरू हुई थी। 

    बता दें कि कोरोना वायरस महामारी संकट के बीच ISRO का यह इस साल का पहला अभियान है। सैटेलाइट लिफ्ट ऑफ पहले शनिवार दोपहर 3 बजकर दो मिनट तय था। लेकिन, वाहन के मार्ग में कुछ अवरोध आने की वजह से इसे 10 मिनट की देरी से प्रक्षेपित करना पड़ा।



    Source link

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Most Popular

    Conversation on corona: कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित आठ राज्यों के CM के साथ PM मोदी की अहम बैठक आज

    डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और...

    दलित हत्या का मामला : गुजरात को जवाब दाखिल करने का सुप्रीम मौका

    नई दिल्ली, 24 नवंबर (आईएएनएस)। सर्वोच्च न्यायालय ने सोमवार को गुजरात सरकार को एक दलित व्यक्ति की हत्या के मामले में एक आरोपी...

    द्रमुक ने तमिलनाडु के सीएम को गंभीर परिणाम भुगतने की चेतावनी दी

    चेन्नई, 23 नवंबर (आईएएनएस)। तमिलनाडु की मुख्य विपक्षी पार्टी द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (द्रमुक) ने सोमवार को राज्य की पुलिस और मुख्यमंत्री के. पालानीस्वामी...

    ट्रेनों को रोकने का यूनियन का फैसला किसान हितों के खिलाफ : अमरिंदर

    चंडीगढ़, 23 नवंबर (आईएएनएस)। पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने एक किसान यूनियन के उस फैसले पर गंभीर चिंता व्यक्त की है, जिसमें...

    Recent Comments