Thursday, December 3, 2020
More
    Home Politics बाइडन निर्वाचित पदों पर 47 साल से, आखिर में राष्ट्रपति पद भी...

    बाइडन निर्वाचित पदों पर 47 साल से, आखिर में राष्ट्रपति पद भी मिला

    न्यूयॉर्क, 8 नवंबर (आईएएनएस)। जोसेफ रॉबिनेट बाइडन जूनियर ने 47 साल के करियर में निर्वाचित अधिकारी के रूप में राष्ट्रपति पद के लिए अपनी 22 साल के प्रयास के बाद आखिरकार इस पद को हासिल कर लिया है।

    जब उन्होंने पहली बार 1988 के चुनाव के लिए डेमोक्रेटिक पार्टी के राष्ट्रपति पद के लिए नामांकन हासिल करना चाहा तो उन्होंने कहा था, यह एक रोमांचक और खतरनाक समय है, अमेरिकियों की इस पीढ़ी के लिए यह अवसर शायद ही कभी दूसरों को भाग्य और इतिहास द्वारा प्रदान किया गया हो। हमारे पास वास्तव में भविष्य को संवारने के लिए मौके हैं।

    यह 2020 के चुनाव के समय में संदर्भित किया जा सकता है।

    जो बाइडन 20 नवंबर को 78 साल के हो रहे हैं और 46 वें राष्ट्रपति के रूप में अमेरिकी राष्ट्रपति पद संभालने वाले सबसे उम्रदराज व्यक्ति होंगे।

    वह जॉन एफ कैनेडी के बाद एक ऐसे राष्ट्र में राष्ट्रपति बनने के लिए दूसरे कैथोलिक भी होंगे, जहां अन्य सभी प्रोटेस्टेंट क्रिश्चियन रहे हैं।

    हालांकि उन्होंने खुद को उदार कहा है, लेकिन पार्टी के उभरते उदारवादी विंग की तुलना में वह अधिक उदारवादी हैं।

    वह 2008 की भारत-अमेरिका परमाणु परमाणु समझौते जैसे विधायी मुद्दों पर काम करने के लिए पार्टी लाइन से परे काम करने में सफल रहे हैं।

    उनका कहना है, मेरे पिता हमेशा कहा करते थे कि एक शख्स को इससे नहीं आंका जाता कि वह कितनी बार गिरा है, बल्कि इससे आंका जाता है कि वह कितनी तेजी से वापस उठ खड़ा हुआ।

    यह उनके व्यक्तिगत जीवन का सार है, जो राष्ट्रपति बनने के उनके प्रयासों और उनकी नीतियों में झलकता है।

    सीनेट में16 साल तक रहने के बाद 1988 राष्ट्रपति पद के नामांकन की दौड़ में बाइडन ने अपनी शिक्षा और नागरिक अधिकारों के आंदोलन में भागीदारी के बारे में अपने अभियान के दौरान कई बढ़ाचढ़ाकर या झूठे दावे किए और उजागर होने पर वापस ले लिया।

    बाइडन ने खुद को उठाया और सीनेट में 20 से अधिक वर्षों की सेवा की, विदेशी संबंधों और न्यायपालिका समितियों का नेतृत्व किया।

    2008 में, उन्होंने राष्ट्रपति बराक ओबामा के लिए राष्ट्रपति पद की नामांकन खो दी, जिन्होंने उन्हें अपना उपराष्ट्रपति बनने के लिए आमंत्रित किया।

    2016 के चुनाव में उन्होंने प्रयास नहीं किया क्योंकि डेमोक्रेटिक पार्टी हिलेरी क्लिंटन को उम्मीदवार बनाने के लिएन तैयार था, जो डोनाल्ड ट्रंप से हार गईं।

    बाइडन का जन्म पेंसिलवेनिया के स्क्रैंटन में आयरिश मूल के एक परिवार में हुआ था।

    उनके पिता, जोसेफ बाइडन कई वित्तीय असफलताओं और बेरोजगारी से गुजरे, जिसके बारे में जो बाइडन ने कहा कि इन परेशानियों ने समस्याओं से जूझ रहे मध्यम और श्रमिक वर्गों के प्रति उनके मन में सहानुभूति पैदा की।

    हाउस स्पीकर नैंसी पेलोसी ने कहा, जो बाइडन की तुलना में श्रमिक वर्ग के साथ कोई अन्य इतना जुड़ाव नहीं रखता है।

    बाइडन ने 1970 में न्यूकैसल काउंटी काउंसिल के लिंए चुनाव जीतने के साथ अपने राजनीतिक करियर का आगाज किया और दो साल बाद वह सीनेट में सफलतापूर्वक चले गए, जहां उन्होंने 36 साल तक एक सदस्य के रूप में और आठ साल तक उपराष्ट्रपति के रूप में काम किया।

    उपराष्ट्रपति पद छोड़ने के बाद, वह पेन्सिलवेनिया यूनिवर्सिटी के पेन बाइडन सेंटर फॉर डिप्लोमेसी एंड ग्लोबल एंगेजमेंट में एक प्रोफेसर थे, जिसका नाम उनके नाम पर रखा गया था।

    सीनेट की विदेश संबंध समिति के सदस्य के रूप में उन्होंने 1998 के परमाणु परीक्षण के लिए भारत के खिलाफ प्रतिबंधों को समाप्त करने पर जोर दिया और 2008 में कांग्रेस द्वारा अनुमोदित भारत-अमेरिका सिविल परमाणु समझौते को प्राप्त करने के लिए पार्टी लाइनों के पार कांग्रेस के सहयोगियों के साथ काम किया।

    वीएवी/एसजीके



    Source link

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Most Popular

    जम्मू-कश्मीर में पंच उपचुनाव के दूसरे चरण में 65 फीसदी मतदान

    श्रीनगर, 2 दिसंबर (आईएएनएस)। जम्मू एवं कश्मीर के चुनाव आयुक्त के.के. शर्मा ने बुधवार को बताया कि पंच पद के उपचुनाव के दूसरे...

    जम्मू-कश्मीर: पंच उपचुनाव के दूसरे चरण में 65 फीसदी मतदान

    डिजिटल डेस्क, श्रीनगर। जम्मू एवं कश्मीर के चुनाव आयुक्त केके शर्मा ने बुधवार को बताया कि पंच पद के उपचुनाव के दूसरे चरण में...

    World Corona: रूस में अगले हफ्ते से शुरू होंगे वैक्सीन लगाने का कैम्पेन, राष्ट्रपति पुतिन ने आदेश दिए 

    डिजिटल डेस्क, मॉस्को। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन ने अगले हफ्ते से देश में कोरोना की वैक्सीन लगाने का अभियान शुरू करने के...

    किसान आंदोलन: किसानों से बातचीत से पहले आज पंजाब के CM से मिलेंगे गृहमंत्री शाह, किसानों बोले- देशभर में होगा आंदोलन

    डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर पर किसानों का आंदोलन बुधवार को 7वें दिन भी जारी रहा। किसानों...

    Recent Comments