28.1 C
New Delhi
Monday, August 2, 2021

MS Dhoni Retirement: BCCI अध्यक्ष सौरव गांगुली ने कहा- एक युग का अंत हुआ

- Advertisement -spot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_img

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) के अध्यक्ष सौरव गांगुली ने इंटरनेशल क्रिकेट से शनिवार को संन्यास लेने वाले पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की जमकर तारीफ की। धोनी और रैना ने एक ही दिन इंटरनेशल क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से संन्यास लेने की घोषणा करके अपने प्रशंसकों को चौंका दिया। दोनों दिग्गज बल्लेबाजों ने सोशल मीडिया पर संन्यास की घोषणा की।  गांगुली ने BCCI के एक बयान में कहा, यह एक युग का अंत है। वह क्या शानदार खिलाड़ी रहे भारत और विश्व कप क्रिकेट के लिए। उनकी कप्तानी की क्षमता एक दम अलग ही थी, ऐसी कि जिसकी बराबरी करना बहुत मुश्किल होगा, खासकर क्रिकेट के छोटे फॉर्मेट में।

गांगुली ने कहा, शुरूआती करियर में वनडे में उनकी बल्लेबाजी ने हर किसी को रोमांचित किया। हर अच्छी चीज का अंत होता है और यह बिल्कुल शानदार रहा है। उन्होंने विकेटकीपरों के आने और देश के लिए पहचान बनाने के लिए मानक तय किए हैं। वह मैदान पर बिना किसी मलाल के अलविदा कहेंगे। उनके जैसी नेतृत्व क्षमता मुश्किल से मिलती है। उनका एक शानदार करियर रहा है। मैं उन्हें शुभकामनाएं देता हूं।

सचिन ने धोनी के संन्यास पर ट्वीट करते हुए लिखा, भारतीय क्रिकेट में आपका योगदान बहुत बड़ा है धोनी। आपके साथ 2011 विश्व कप जीतना मेरे जीवन का सबसे अच्छा पल है। आपको और आपके परिवार को दूसरी पारी के लिए शुभकामनाएं। हालांकि धोनी आईपीएल खेलते रहेंगे, लेकिन अब धोनी को अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में नहीं देख पाएंगे। धोनी ने आखिरी बार पिछले साल इंग्लैंड में खेले गए विश्व कप में सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ अपना आखिरी मैच खेला था।

भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली ने ट्वीट कर लिखा-हर क्रिकेटर के सफर का एक दिन अंत होता है, लेकिन जब आपका कोई करीबी इस तरह का फैसला लेता है तो आप भावनात्मक रूप से ज्यादा महसूस करते हैं। आपने जो इस देश के लिए किया है वो हर किसी के दिल में रहेगा, लेकिन मैंने आपसे जो सम्मान और प्यार पाया है वो मेरे साथ ही रहेगा। पूरे विश्व ने आपकी उपलब्धियां देखी हैं मैंने आपको देखा है। कोहली ने धोनी से ही कप्तानी के गुर सीखे हैं और मैदान पर कई बार उन्हें धोनी से मदद लेते हुए देखा गया है। धोनी ने अपने संन्यास की तमाम अटकलों पर स्वतंत्रता दिवस के दिन विराम लगा दिया।

वहीं पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने ट्वीट करते हुए लिखा, उन जैसा खिलाड़ी होना ना मुमकिन। ना कोई है, ना कोई था और ना कोई होगा एमएस जैसा। खिलाड़ी आते हैं जाते हैं लेकिन कोई उनके जैसा शांत नहीं होगा। धोनी, लोगों से अपने जुड़ाव के कारण कई लोगों, युवा क्रिकेटरों की प्ररेणा हैं। ओम फिनिशाएय नम:। सहवाग ने एक और ट्वीट में लिखा, वो आजादी नहीं जो क्रिकेट प्रशंसक चाहते थे।

वहीं सहवाग के जोड़ीदार रहे गौतम गंभीर ने ट्वीट किया, इंडिया-ए से भारतीय टीम तक। हमारी पूरा सफर सवालों, कोमा, ब्लैंक और एक्सक्लेमेशन मार्क से भरा रहा। अब जब आपने अपने अध्याय को खत्म कर दिया, मैं आपको अनुभव से कह सकता हूं कि नया सफर रोमांचक होगा। यहां डीआरएस की सीमाएं नहीं हैं। आप शानदार खेले माही।

BCCI सचिव जय शाह ने कहा, एमएस धोनी आधुनिक युग के महान खिलाड़ियों में से एक हैं। मैं समझता हूं कि यह एक व्यक्तिगत निर्णय है और हम इसका सम्मान करते हैं। माही जैसा कि हम सभी उनके साथ प्यार से पेश आते हैं और उनका अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में असाधारण करियर रहा है। उन्होंने कहा, उनकी कप्तानी प्रेरणादायक और सराहनीय रही है। वह खेल में उस समय से अमीर बनते जा रहे हैं, जिस समय वह शामिल हुए थे। मैं उन्हें आईपीएल और उनके भविष्य के लिए अपनी शुभकामनाएं देता हूं।

आलराउंडर हार्दिक पांड्या ने ट्वीट करते हुए कहा, यहां सिर्फ एक ही एमएस धोनी है। मेरे करियर में सबसे बड़ी प्रेरणा बनने के लिए मेरे दोस्त और बड़े भाई को धन्यवाद। नीली जर्सी में आपके साथ खेलना याद आएगा, लेकिन मुझे यकीन है कि आप हमेशा मेरे लिए रहेंगे और मुझे गाइड करते रहेंगे।

भारतीय स्टार आफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने कहा, हमेशा की तरह दिग्गज अपने स्टाइल में संन्यास लेते है। महेंद्र सिंह धोनी भाई आपने देश के लिए सब कुछ दिया। चैंपियंस ट्रॉफी, 2011 विश्व कप और चेन्नई सुपर किंग्स की आईपीएल की जीत हमेशा मेरी यादों में रहेगा। भविष्य के लिए आपको शुभकामनाएं।

वहीं भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज वसीम जाफर ने ट्वीट किया, इतनी सारी ट्रॉफी और यादों के लिए शुक्रिया धोनी। जब तक क्रिकेट जिंदा रहेगा आपकी विरासत जिंदा रहेंगी।

धोनी ने 2004 में वनडे में डेब्यू किया था। बाद में वह विश्व क्रिकेट में सबसे सफल कप्तान बने। उनकी कप्तानी में ही भारत ने 2007 टी 20 विश्व कप में पाकिस्तान को हराकर चैंपियन बना था। इसके चार साल बाद ही उन्होंने 2011 विश्व कप में भारत को चैंपियन बनाया था। इसके दो साल बाद ही उनकी कप्तानी में भारतीय टीम इंग्लैंड में आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी जीती थी। धोनी के नाम बतौर कप्तान सबसे ज्यादा अंतर्राष्ट्रीय मैच खेलने का रिकॉर्ड है। उन्होंने कप्तान के रूप में 332 मैच खेले। उन्होंने भारत के लिए 350 वनडे, 90 टेस्ट और 98 टी 20 मैच खेले हैं।



Source link

- Advertisement -spot_imgspot_img
Latest news
- Advertisement -spot_img
Related news
- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here