Wednesday, November 25, 2020
More
    Home International शोध: 30 सेकंड में कोरोनावायरस को मार देगा माउथवॉश, ब्रिटेन में कार्डिफ...

    शोध: 30 सेकंड में कोरोनावायरस को मार देगा माउथवॉश, ब्रिटेन में कार्डिफ विश्वविद्यालय के अध्ययन में खुलासा 

    डिजिटल डेस्क, लंदन। शोधकर्ताओं ने एक बार फिर दावा किया है कि माउथवॉश इस्तेमाल करने से कोरोनावायरस मर जाता है। प्रयोगशाला में शोध के दौरान पाया गया कि 30 सेकंड में माउथवाश से ये वायरस मरता है। ब्रिटेन में कार्डिफ विश्वविद्यालय के अध्ययन से पता चला है कि कुछ माउथवॉश लार (सलाइवा) में कोरोनावायरस को मारने में मदद कर सकते हैं। ये अध्ययन अभी प्रकाशित नहीं किया गया है।

    बीबीसी के अनुसार हालांकि शोध से पता चलता है कि माउथवॉश के उपयोग से लार में वायरस को मारने में मदद तो मिल सकती है, लेकिन ऐसा कोई सबूत नहीं है कि इसे कोरोनोवायरस के उपचार के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। ये भी नहीं कह सकते कि वायरस श्वसन तंत्र या फेफड़ों तक नहीं पहुंचेगा। शोध कर रहे लेखकों ने कहा कि इन व्रिटो सार्स-कोव-2 को निष्क्रिय करने के लिए माउथवॉश की क्षमता का परीक्षण किया गया, जो संक्रामकता में कमी का पता लगाने के लिए सभी प्रोटोकॉल का उपयोग करके किया गया। माउथवॉश का परीक्षण प्रयोगशाला में उन परिस्थितियों में किया गया जो मुंह या नाक जैसी परखनली के डिजाइन की थी।

    माउथवॉश में 0.07 प्रतिशत सेटाइपैराडिनियम क्लोराइड 
    शोधकर्ताओं ने बताया कि माउथवॉश में कम से कम 0.07 प्रतिशत सेटाइपैराडिनियम क्लोराइड है, जिसमें वायरस मारने की क्षमता के संकेत दिखते हैं। इस शोध के प्रमुख लेखक रिचर्ड स्टैनटन ने बीबीसी के हवाले से बताया, इस अध्ययन से पता चलता है कि गम रोग से लड़ने के लिए कई सामान्य रूप से उपलब्ध माउथवॉश भी सार्स-कोव-2 कोरोनावायरस (और अन्य संबंधित वायरस) को निष्क्रिय कर सकते हैं।

    रोगियों की लार में वायरस के स्तर को कम करने में मदद करता
    रिसर्च टीम के अनुसार ​कि क्लिनिकल ट्रायल में यह देखा जाएगा कि क्या यह कार्डिफ के अस्पताल में कोविड-19 रोगियों की लार में वायरस के स्तर को कम करने में मदद करता है या नहीं, जिसके परिणाम अगले साल की शुरुआत में आने की उम्मीद है।

    माउथवॉश प्रयोगशाला में वायरस को बहुत प्रभावी ढंग से मिटाते हैं
    शोधकर्ता डेविड थॉमस ने कहा कि शुरुआती परिणाम उत्साहजनक थे, लेकिन नैदानिक परीक्षण इस बात का सबूत नहीं देगा कि मरीजों के बीच संचरण को कैसे रोका जाए। ये माउथवॉश प्रयोगशाला में वायरस को बहुत प्रभावी ढंग से मिटाते हैं, ये तो साफ है, लेकिन ये देखना बाकी है कि ये माउथवॉश रोगियों पर भी काम करेंगे या नहीं। अक्टूबर में जर्नल ऑफ मेडिकल वायरोलॉजी में प्रकाशित एक अन्य अध्ययन में यह भी पता चला है कि कुछ ओरल एंटीसेप्टिक्स और माउथवॉश में कोरोनावायरस को निष्क्रिय करने की क्षमता हो सकती है।



    Source link

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Most Popular

    तेलंगाना भाजपा प्रमुख की सर्जिकल स्ट्राइक वाले बयान पर मचा बवाल

    ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम (जीएचएमसी) चुनावों के लिए प्रचार करते हुए, भाजपा नेता ने कहा कि भाजपा के चुनाव जीतने और उसके नेता...

    Agriculture: केंद्र ने 234.68 करोड़ रुपये की 7 कृषि प्रसंस्करण क्लस्टरों को दी मंजूरी

    डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने 234.68 करोड़ रुपये की लागत से सात कृषि प्रसंस्करण क्लस्टरों को मंजूरी दी है। यह जानकारी...

    सीबीआई ने आदिवासी किशोरी के गुम होने के मामले में आरोपी को पकड़ा

    नई दिल्ली, 25 नवंबर (आईएएनएस)। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने एक आदिवासी किशोरी के लापता होने के मामले में मंगलवार को आरोपी अरुण...

    मी टू मामला : मानहानि मामले में अकबर और प्रिया रमानी में नहीं हुई सुलह

    नई दिल्ली, 24 नवंबर (आईएएनएस)। पत्रकार प्रिया रमानी ने मंगलवार को दिल्ली की एक अदालत को बताया कि वह अपने बयान के साथ...

    Recent Comments