29.1 C
New Delhi
Wednesday, August 4, 2021

बयान: गुलाम नबी आजाद ने कहा- 72 सालों में सबसे निचले पायदान पर कांग्रेस

- Advertisement -spot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_img

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। देश की सबसे पुरानी पार्टी इन दिनों सबसे बुरे दौर से गुजर रही है। लगातार दो लोकसभा चुनावों में उसे करारी शिकस्त हासिल हुई और विधानसभा चुनावों में भी यही हाल है। बिहार विधानसभा चुनाव और अन्य राज्यों में हुए उपचुनाव में कांग्रेस का प्रदर्शन शर्मनाक रहा। खराब प्रदर्शन पर पार्टी के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि पिछले 72 सालों में कांग्रेस सबसे निचले पायदान पर है।

गुलाम नबी आजाद ने कहा, ‘हम सभी हार को लेकर चिंतित हैं, खासकर बिहार और उपचुनाव परिणामों के बारे में। मैं हार के लिए नेतृत्व को दोष नहीं देता। पार्टी से जुड़े हमारे लोगों का जमीनी स्तर पर संपर्क खत्म हो गया है। लोगों का पार्टी से प्यार होना चाहिए। पिछले 72 सालों में कांग्रेस सबसे निचले पायदान पर है।’ कांग्रेस के पास पिछले दो कार्यकाल के दौरान लोकसभा में विपक्ष के नेता का पद भी नहीं है, लेकिन कांग्रेस ने लद्दाख हिल काउंसिल चुनावों में 9 सीटें जीतीं, जबकि हम इस तरह के सकारात्मक परिणाम की उम्मीद नहीं कर रहे थे।

आजाद ने कहा कि चुनाव पांच सितारा संस्कृति से नहीं जीते जाते हैं। आज के नेताओं के साथ सबसे बड़ी समस्या यह है कि अगर उन्हें पार्टी का टिकट मिलता है, तो वे पहले पांच सितारा होटल बुक कराते हैं। यदि कोई उबड़-खाबड़ सड़क है तो वे उस पर नहीं जाएंगे। उन्होंने कहा कि अब पांच सितारा संस्कृति को छोड़ने का वक्त आ गया है। जब तक इसे नहीं छोड़ेंगे तब तक कोई चुनाव नहीं जीता जा सकता। पार्टी के पदाधिकारियों को घेरते हुए आजाद ने कहा कि चुनाव के बिना पार्टी में किसी को भी कोई भी पद मिल जाता है। अभी पार्टी पदाधिकारियों को अपॉइंट किया जाता है लकिन अगर सभी पदाधिकारी इलेक्शन से चुने जाएंगे, तो वे अपनी जिम्मेदारी समझेंगे।

उन्होंने कहा कि जब तक हम हर स्तर पर अपने कामकाज के तरीके को नहीं बदलेंगे, चीजें नहीं बदलेंगी। आजाद ने कहा, ‘मैं कोरोना महामारी के कारण गांधी परिवार को क्लीन चिट दे रहा हूं क्योंकि वे अभी बहुत कुछ नहीं कर सकते। हमारी मांगों में कोई बदलाव नहीं हुआ है। वे हमारी अधिकांश मांगों पर सहमत हो गए हैं। यदि वे राष्ट्रीय विकल्प बनना चाहते हैं और पार्टी को पुनर्जीवित करना चाहते हैं तो हमारे नेतृत्व को चुनाव कराना चाहिए।



Source link

- Advertisement -spot_imgspot_img
Latest news
- Advertisement -spot_img
Related news
- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here