Friday, January 22, 2021
More
    Home Business Retail Inflation & IIP: दिसंबर में खुदरा महंगाई दर घटकर 4.59% पर...

    Retail Inflation & IIP: दिसंबर में खुदरा महंगाई दर घटकर 4.59% पर पहुंची , इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन निगेटिव जोन में

    डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। फूड प्रोडक्ट की घटी कीमतों के कारण दिसंबर में खुदरा महंगाई दर पिछले महीने के  6.93% से घटकर 4.59% हो गई। फूड प्रोडक्ट की महंगाई दर नवंबर में 9.43% थी जो दिसंबर में घटकर 3.41% हो गई। अर्थव्यवस्था के एक अन्य प्रमुख बैरोमीटर, इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन निगेटिव जोन में है। नवंबर में इसमें 1.9 प्रतिशत का कॉन्ट्रेक्शन आया है। इसका मुख्य कारण मैन्युफैक्चरिंग, माइनिंग और कैपिटल गुड्स सेक्टरों का लोअर आउटपुट है। 

    इनमें हुई बढ़ोतरी और इनमें आई गिरावट 
    सेंट्रल स्टेटस्टिक्स ऑफिस आंकड़ों के मुताबिक कंज्यूमर फूड प्राइज इंफ्लेशन नवंबर के 6.93% के मुकाबले दिसंबर में घटकर 4.59% पर पहुंच गया। सब्जियों की महंगाई दर भी 15.63% से घटकर -10.41% हो गई है। दालों की महंगाई दर 17.91% के मुकाबले घटकर 15.98% हो गई। अनाज की महंगाई दर 2.32% के मुकाबले घटकर 0.98% हो गई है। वहीं, महीने दर महीने के आधार पर फ्यूल एंड लाइट इन्फ्लेशन नवंबर के 1.90% के मुकाबले बढ़कर 2.99% हो गई है। हाउसिंग इंफ्लेशन 3.19% थी जो नवंबर में बढ़कर 3.21% पर पहुंच गई। कपड़ों और जूतों की महंगाई दर 3.30% के मुकाबले बढ़कर 3.3.49% हो गई।

    क्या होता है CPI इंडेक्स?
    CPI यानि उपभोक्ता मूल्य सूचकांक। यह रिटेल महंगाई का इंडेक्स है। रिटेल महंगाई वह दर है, जो जनता को सीधे तौर पर प्रभावित करती है। यह खुदरा कीमतों के आधार पर तय की जाती है। भारत में खुदरा महंगाई दर में खाद्य पदार्थों की हिस्सेदारी की करीब 45% है। दुनिया भर में ज्यादातर देशों में खुदरा महंगाई के आधार पर ही मौद्रिक नीतियां बनाई जाती हैं। भारत में खुदरा महंगाई दर में खाद्य और पेय पदार्थ से जुड़ी चीजों और एजुकेशन, कम्युनिकेशन, ट्रांसपोर्टेशन, रीक्रिएशन, अपैरल, हाउसिंग और मेडिकल केयर जैसी सेवाओं की कीमतों में आ रहे बदलावों को शामिल किया जाता है।

    महीने-दर-महीने आधार पर आईआईपी का सेक्टर वाइज ब्रेकअप
    -माइनिंग सेक्टर में नवंबर में कॉन्ट्रेक्शन 1.5% से बढ़कर 7.3% हो गया।
    -मैन्युफैक्टरिंग सेक्टर में 3.5% ग्रोथ के मुकाबले 1.7% का कॉन्ट्रेक्शन रहा।
    -इलेक्ट्रिस्टी सेक्टर में 11.2% ग्रोथ के मुकाबले 3.5% की ग्रोथ रही।
    -प्राइमरी गुड्स में 3.3% कॉन्ट्रेक्शन के मुकाबले 2.6% का कॉन्ट्रेक्शन रहा।
    -कैपिटल गुड्स में 3.3% ग्रोथ के मुकाबले 7.1% का कॉन्ट्रेक्शन रहा।
    -इंटरमीडिएट गुड्स में 0.8% की ग्रोथ के मुकाबले 3% कॉन्ट्रेक्शन रहा।
    -इंफ्रास्ट्रक्चर गुड्स में 7.8% ग्रोथ के मुकाबले केवल 0.7% की ग्रोथ रही।
    -कंज्यूमर ड्यूरेबल्स में 17.6% ग्रोथ के मुकाबले % का कॉन्ट्रेक्शन रहा।
    -कंज्यूमर नॉन ड्यूरेबल्स में 7.5% ग्रोथ के मुकाबले 0.7% का कॉन्ट्रेक्शन रहा।



    Source link

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Most Popular

    Recent Comments