Wednesday, January 20, 2021
More
    Home Blog

    सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी टी-20 टूर्नामेंट, ग्रुप-ई से हरियाणा और दिल्ली क्वार्टर फाइनल में

    0

    डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

    जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
    भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

    ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
    कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था। 



    Source link

    Farmers Protest: सरकार और किसानों के बीच 10वीं दौर की वार्ता आज, ट्रैक्टर रैली पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई भी

    0

    डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। तीन नए कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली बॉर्डर पर डटे किसानों की बुधवार को सरकार के साथ 10वें दौर की बातचीत होगी। ये बैठक पहले 19 जनवरी को होनी थी, लेकिन इसे एक दिन के लिए टाल दिया गया। वहीं सुप्रीम कोर्ट किसानों की 26 जनवरी को प्रस्तावित ट्रैक्टर रैली के मामले पर भी आज सुनवाई करेगा।

    बता दें कि पिछले 50 से ज्यादा दिनों से दिल्ली से लगी सीमाओं पर किसानों का आंदोलन जारी है। किसान और सरकार के बीच अब तक नौ दौर की वार्ता हुई, लेकिन कोई ठोस हल नहीं निकल पाया। किसानों ने साफ कर दिया है कि जब तक उनकी मांगें पूरी नहीं होती, वो वापस नहीं जाएंगे। वहीं कृषि ने कहा था  कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद, कानूनों को लागू नहीं किया जा सकता है। अब हम उम्मीद करते हैं कि किसान अगली बैठक मेंकानून पर क्लॉज वाइज चर्चा करेंगे और सरकार को बताएंगे कि वे कानूनों को निरस्त करने के अलावा क्या चाहते हैं?

    उधर, किसानों ने कृषि कानूनों के खिलाफ 26 जनवरी को दिल्ली के आउटर रिंग रोड पर ट्रैक्टर परेड करने का ऐलान किया है। स्वराज इंडिया के योगेंद्र यादव ने रविवार को कहा था कि गणतंत्र दिवस के दिन किसान दिल्ली में ट्रैक्टर रैली निकालेंगे। इस दौरान सभी ट्रैक्टरों पर तिरंगा लगा होगा। साथ ही वो आउटर रिंग रोड पर मार्च करेंगे। इसके लिए हजारों ट्रैक्टरों को तैयार किया जा रहा है। योगेंद्र यादव ने साफ किया कि ये रैली राजपथ से बहुत दूर होगी, ऐसे में आधिकारिक गणतंत्र दिवस समारोह में कोई व्यवधान नहीं पैदा होगा।

    दिल्ली पुलिस ने इस ट्रैक्टर रैली के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अर्ज़ी दाखिल की है। इसमें कहा गया है कि गणतंत्र दिवस परेड राष्ट्रीय गौरव से जुड़ा कार्यक्रम है। आंदोलन के नाम पर देश की अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी की इजाज़त नहीं दी जा सकती। सुप्रीम कोर्ट से दिल्ली पुलिस ने इस रैली पर रोक लगाने की मांग की है। सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को याचिका पर सुनवाई स्थगित कर दी थी। कोर्ट ने कहा था कि यह पुलिस के ऊपर है कि वह इसकी अनुमति देती है या नहीं।



    Source link

    Farmer Suicide: टीकरी बॉर्डर पर बैठे प्रदर्शनकारी किसान ने खाया जहर, अस्पताल में भर्ती

    0

    डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग पर अड़े किसान दिल्ली की सीमाओं पर 56 दिन से लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं। मंगलवार को टीकरी बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे रोहतक जिले के एक किसान ने जहरीला पदार्थ खा लिया। इसके तुरंद बाद उसे अस्पताल जाया गया। जहां उपचार के बाद उसकी हालत स्थिर बनी हुई है।

    जानकारी अनुसार रोहतक जिले की सांपला तहसील के गांव पाकस्मा में रहने वाले 42 वर्षीय किसान जयभगवान राणा कई दिन से किसानों के साथ टीकरी बार्डर धरने पर शामिल हो रहे थे। मंगलवार की शाम करीब 4.30 बजे उनकी अचानक हालत बिगड़ने लगी तो पास बैठे आंदोलनकारियों ने उनको संभाला और बताया कि उन्होंने जहर निगल लिया है। मौके पर तुरंत एंबुलेंस बुलाई गई और राणा को दिल्ली के संजय गांधी मेमोरियल अस्पताल भेज दिया गया। 

    जिंदा की सुनवाई नहीं हो रही, मरने के बाद ही कोई सुन ले
    अस्पताल रवाना होने से पहले उन्होंने एक न्यूज चैनल को बताया कि समस्या ये है कि दो महीने से किसान यहां बैठे हैं। जिंदा किसानों की कोई सुनवाई नहीं हो रही, हो सकता है मरने के बाद ही कोई सुन ले। इसलिए मैंने सुसाइड करने की कोशिश की है। इतना बोलते ही जयभगवान राणा को उल्टी आने लगी तो उन्हें तुरंत एंबुलेंस में लिटाकर अस्पताल रवाना कर दिया गया।

    सरकार को मीडिया की मौजूदगी में किसानों से बात करने की मांग की
    बता दें कि इस घटना से पहले राणा ने देशवासियों के नाम एक पत्र भी लिखा है। इसमें उन्होंने कहा कि सरकार सभी राज्यों के दो-दो किसान नेताओं से मीडिया की मौजूदगी में बात करे। यदि ज्यादा राज्यों के किसान नेता कानूनों के खिलाफ हों तो कानूनों को रद्द कर दिया जाए और ज्यादा राज्य कानून के हक में हो तो किसान आंदोलन को खत्म कर घर चले जाएं।

    जयभगवान राणा द्वारा जहरीला पदार्थ निगलने से पहले मंगलवार सुबह सिरसा जिले के गांव साहूवाला के किसान हरप्रीत सिंह को मिर्गी का दौरा आ गया। उन्हें खून की उल्टी भी लगी। हालत बिगड़ने पर उन्हें पहले धरने के निकट ही एक चिकित्सा कैंप में ले जाया गया और उसके बाद बहादुरगढ़ शहर के एक निजी अस्पताल भेज दिया गया।



    Source link

    Cricket: वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप में टॉप पर पहुंचा भारत, फाइनल में कैसे पहुंच सकता है भारत?

    0


    नई दिल्ली। ब्रिस्बेन में जीत के बाद वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप में भारत टॉप पर आ गया है। वहीं, न्यूजीलैंड दूसरे और ऑस्ट्रेलिया तीसरे नंबर पर पहुंच गया है। इस जीत से टेस्ट रैंकिंग में भी भारत को फायदा हुआ है। टेस्ट रैंकिंग में अब टीम इंडिया दूसरे नंबर पर आ गई है, जबकि ऑस्ट्रेलिया टेस्ट रैंकिंग में दूसरे से तीसरे नंबर पर खिसक गई है। जबकि न्यूजीलैंड पहले पायदान पर काबिज है। टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंचने के लिए अब भारत को इंग्लैंड के साथ खेली जाने वाली टेस्ट सीरीज में घरेलू परिस्थितियों का फायदा मिल सकता है। 

    ऐसे वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंच सकता है भारत 
    ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ब्रिस्बेन में जीत के साथ ही भारत के 71.67 पर्सेंटेज ऑफ पॉइंट्स (PCT) हो गए हैं और वह पहले नंबर पर है। न्यूजीलैंड 70 PCT के साथ दूसरे नंबर पर हैं। अब तक टॉप पर बरकरार ऑस्ट्रेलिया 69.2 PCT के साथ तीसरे नंबर पर खिसक गई है। टीम इंडिया को न्यूजीलैंड से ऊपर बने रहने के लिए  इंग्लैंड के खिलाफ 5 फरवरी से शुरू होने वाली सीरीज में 80 प्वॉइंट्स की जरूरत होगी। यदि भारत चार मैचों की सीरीज 2-0 से जीत लेता है तो वह न्यूजीलैंड से ऊपर रहेगा और फाइनल में पहुंच जाएगा। वहीं, सीरीज 3-1 से जीतने पर भारत को 90 पॉइंट मिलेंगे। इस स्थिति में भी भारत न्यूजीलैंड से ऊपर रहेगा और आसानी से फाइनल में पहुंच जाएगा।

    5 फरवरी को होगा पहला टेस्ट
    भारत और इंग्लैंड के बीच 4 टेस्ट, 3 वनडे और 5 टी-20 की सीरीज खेली जाएगी। 5 फरवरी से टेस्ट सीरीज की शुरुआत होगी। वहीं, पिंक बॉल टेस्ट समेत आखिरी दो टेस्ट मैच अहमदाबाद में दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम मोटेरा में खेले जाएंगे। आखिर में 3 वनडे की सीरीज पुणे में खेली जाएगी।

    भारत-इंग्लैंड के बीच 3 स्टेडियम में होंगे सभी मैच
    BCCI ने कोरोना को ध्यान में रखकर इंग्लैंड के भारत दौरे के लिए सिर्फ 3 वेन्यू को फाइनल किया है। पहले 2 टेस्ट चेन्नई में खेले जाएंगे। बाकी 2 टेस्ट अहमदाबाद में होंगे। इसके बाद 12 मार्च से 5 टी-20 की सीरीज अहमदाबाद में खेली जाएगी। टी-20 सीरीज का आखिरी मैच 20 मार्च को खेला जाएगा। वहीं, 23 मार्च से वनडे सीरीज की शुरुआत होगी। सभी मैच पुणे में होंगे। सीरीज का आखिरी वनडे 28 मार्च को होगा।



    Source link

    अमेरिका: हाई अलर्ट के बीच 5 जगह गोलीबारी, एक की मौत, पांच घायल

    0

    डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

    जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
    भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

    ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
    कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था। 



    Source link

    J&K: पीपुल्स अलायंस फॉर गुपकार डिक्लेरेशन को झटका, सजाद लोन की पार्टी गठबंधन से बाहर हुई

    0

    डिजिटल डेस्क, जम्मू। स्थानीय निकाय चुनावों में बहुमत हासिल करने के लगभग एक महीने बाद, जम्मू और कश्मीर में पीपुल्स अलायंस फॉर गुपकार डिक्लेरेशन (PAGD) को मंगलवार को एक बड़ा झटका लगा।  पीपुल्स कांफ्रेंस के प्रमुख सजाद लोन गठबंधन से बाहर हो गए है। लोन घाटी में विपक्षी दलों के गठबंधन का हिस्सा थे, जिसमें पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी, नेशनल कॉन्फ्रेंस और सीपीएम शामिल है। कांग्रेस ने इस गठबंधन को बाहरी समर्थन दिया है। लोन गठबंधन में प्रवक्ता थे।

    सात दलों वाले गुपकार गठबंधन के अध्यक्ष डॉ. फारूक अब्दुल्ला को लिखे पत्र में सज्जाद लोन ने कहा कि हम गठबंधन से तलाक ले रहे हैं। लेकिन इसके उद्देश्यों से नहीं। बता दें कि डीडीसी चुनावों के परिणाम आने के बाद महबूबा मुफ्ती ने भी इस ग्रुप से किनारा कर लिया था। इसके बाद वह किसी बैठक में शामिल नहीं हुईं। वहीं, सज्जाद लोन भी कश्मीर के एक बड़े नेता हैं, जो मुफ्ती मोहम्मद सईद तथा पीएम नरेन्द्र मोदी के खास माने जाते हैं। साल 2014 के विधानसभा चुनाव में उन्होंने हंदवाड़ा सीट से चुनाव लड़ा था। अब उन्होंने भी इस गठबंधन से किनारा कर लिया है।

    जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के करीब एक साल बाद कश्मीर के नेताओं ने 17 नवंबर 2020 को पीपुल्स अलायंस फॉर गुपकार डिक्लेरेशन का गठन किया था। पिछले साल 24 अक्टूबर को लोन को गुपकार का प्रवक्ता बनाया गया था। इस ग्रुप की तरफ से सभी अधिकारिक बयान सज्जाद लोन की तरफ से ही जारी किए जाते थे। गुपकार ग्रुप में नेशनल कॉन्फ्रेंस, पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी, पीपुल्स कॉन्फ्रेंस, जम्मू कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट, अवामी नेशनल कॉन्फ्रेंस और सीपीएम शामिल थे। कांग्रेस भी पीएजीडी की समर्थक है लेकिन इसकी सदस्य नहीं है।





    Source link

    West Bengal Elections 2021: बंगाल में फिर बनेगी ममता सरकार, भाजपा बनेगी दूसरी बड़ी पार्टी, IANS सी-वोटर सर्वे में खुलासा

    0

    डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। सत्तारूढ़ ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस बड़े नुकसान के बावजूद पश्चिम बंगाल में अपना किला बरकरार रख सकती है। आगामी विधानसभा चुनावों में उनकी पार्टी 294 में से 158 सीटों पर जीत दर्ज कर सकती है। वहीं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राज्य में दूसरी सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर में उभरने के आसार हैं। यह बात बीते दिन IANS सी-वोटर सर्वे में सामने आई है।

    इस साल जनवरी में राज्य के सभी 294 विधानसभा क्षेत्रों में 18,000 लोगों पर यह सर्वेक्षण किया गया है। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में पिछली बार की अपेक्षा कुछ नुकसान के साथ अबकी बार ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस के जीतने का अनुमान है, जबकि भाजपा राज्य में महत्वपूर्ण बढ़त हासिल कर सकती है। 294 सदस्यीय पश्चिम बंगाल विधानसभा में टीएमसी की ओर से 154 सीटों पर जीत हासिल करने का अनुमान है। पार्टी को 2016 में मिली 211 सीटों के मुकाबले 53 सीटें कम मिलने की उम्मीद है।

    भाजपा के खाते में आ सकती हैं 102 सीटें
    भाजपा राज्य में दूसरी सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभर रही है। इस चुनाव में भाजपा सरकार बनाती बेशक न दिखाई दे रही हो, मगर वह पिछले बार की तीन सीटों के मुकाबले आगामी विधानसभा चुनाव में 102 सीटें जीत सकती है। भगवा पार्टी राज्य में अपने पिछले प्रदर्शन से ऐतिहासिक रूप से 99 सीटें अधिक जीत सकती है। संभावना है कि कांग्रेस और वामपंथी दल एक बार फिर राज्य में अपनी जमीन बचाने में नाकाम रहने वाले हैं, क्योंकि 2016 के विधानसभा चुनावों में उन्हें मिली 76 सीटों की तुलना में इस बार उन्हें महज 30 सीटें मिलने की उम्मीद है। कांग्रेस और वाम दलों ने पिछले साल दिसंबर में पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए गठबंधन की घोषणा की थी।

    2016 के विधानसभा चुनाव में TNC को 44.9 प्रतिशत वोट शेयर मिला था
    सर्वेक्षण में भविष्यवाणी की गई है कि अन्य दल राज्य में चार सीटें जीत सकते हैं। सर्वेक्षण में यह भी कहा गया है कि 2016 के विधानसभा चुनावों में टीएमसी को 44.9 प्रतिशत वोट शेयर मिला था, जबकि इस बार उसके वोट शेयर में सेंध लगेगी, क्योंकि इस बार उसे 43 प्रतिशत वोट शेयर मिलने की उम्मीद है। पार्टी को आगामी चुनाव में 1.9 प्रतिशत वोट शेयर गंवाना पड़ सकता है।

    भाजपा को इस बार 37.5% वोट शेयर मिलने की उम्मीद
    दूसरी ओर, भाजपा राज्य में अधिकतम वोट शेयर प्राप्त करने के लिए तैयार है और सर्वे में उसे 2016 में मिले 10.2 प्रतिशत वोट शेयर की तुलना में इस बार 37.5 प्रतिशत वोट शेयर प्राप्त करने की भविष्यवाणी की गई है। भगवा पार्टी बंगाल में मतदाताओं के बीच ऐतिहासिक तौर पर पैठ बनाती दिख रही है और उसके वोट शेयर में 27.3 प्रतिशत की बढ़त नजर आ रही है।

    कांग्रेस का वोट शेयर घटकर 11.8 प्रतिशत रह जाएगा
    सर्वेक्षण में अनुमान लगाया गया है कि कांग्रेस और वाम दलों को भी अपने वोट शेयर में बड़ी सेंध का सामना करना पड़ेगा। वर्ष 2016 के विधानसभा चुनावों में 32 प्रतिशत वोट शेयर की तुलना में इनका वोट शेयर घटकर 11.8 प्रतिशत रह जाएगा और उन्हें 20.2 प्रतिशत की गिरावट झेलनी होगी। सर्वेक्षण में यह भी कहा गया है कि अन्य को 7.7 प्रतिशत वोट शेयर प्राप्त होगा, जो 2016 के 12.9 प्रतिशत वोट शेयर से 5.2 प्रतिशत कम होगा।

    TMC को राज्य में 154 से 162 सीटों पर जीत मिल सकती है
    सर्वेक्षण में यह भी अनुमान लगाया गया है कि TMC को राज्य में 154 से 162 सीटों पर जीत मिल सकती है और वह सरकार बना सकती है। वहीं भाजपा को 98 से 106 सीटें मिलने की संभावना है। सर्वे में सामने आया कि कांग्रेस और वाम दल राज्य में 26 से 34 सीटें जीत सकते हैं, जबकि अन्य के खाते में दो से छह सीटें जा सकती है। भाजपा ने कई मौकों पर कहा है कि वह राज्य में लगभग 200 सीटों पर जीत दर्ज करेगी।



    Source link

    Corona Vaccine: कोरोना संकट में मदद के लिए आगे आया भारत, कल से 6 देशों में वैक्सीन की फ्री सप्लाई

    0

    डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

    जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
    भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

    ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
    कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था। 



    Source link

    Winter Healthy Drinks: विंटर सीजन में गजब के फायदे देती हैं ये 5 हेल्दी ड्रिंक्स

    0


    डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। विंटर सीजन में बीमारियों से लड़ने के लिए जरूरी है कि डाइट और लाइफस्टाइल में जरूरी बदलाव किए जाए। इस सीजन में अगर ड्रिंक्स की बात की जाए तो चाय और कॉफी जैसे लिमिटेड ऑप्शन ही नजर आते हैं। जबकि गर्मी के मौसम में, फलों के रस, शेक, आम पन्ना, छाछ, जलजीरा या नारियल पानी जैसे कई सारे ऑप्शन मौजूद है। ऐसे में अगर आप विंटर सीजन में हेल्दी और गर्म रखने वाले पेय की तलाश कर रहे हैं तो यहां कुछ हेल्दी ड्रिंक्स के बारे में बताया गया है जो सर्दियों के मौसम में आपको कमाल के फायदे दे सकती हैं।

    गोल्डन मिल्क
    गोल्डन मिल्क को टर्मरिक मिल्क (हल्दी का दूध) के नाम से भी जाना जाता है। हल्दी एंटीऑक्सिडेंट, एंटी इंफ्लेमेटरी और एंटीवायरल गुणों से भरी हुई है। इससे सामान्य सर्दी जुखाम दूर रहता है और पूरी हेल्थ को भी इंप्रूव करने में मदद करता है। मधुमेह रोगियों, हृदय स्वास्थ्य, हड्डियों, त्वचा रोग में हल्दी वाला दूध पीना फायदेमंद है। हल्दी वाला दूध बहती नाक को ठीक करने का एक बेहतरीन उपाय है।

    टोमेटो सूप
    टमाटर का सूप न केवल स्वादिष्ट होता है, बल्कि यह विटामिन ए, बी, सी, और सोडियम, सल्फर, जिंक और पोटेशियम जैसे मिनरल्स से भरा होता है। हल्के तले हुए ब्रेड क्रॉउटन्स के साथ टमाटर का गर्म सूप सर्दियों में लिया जा सकता है। टमाटर सूप यदि ऑलिव ऑयल से बनाया जाए तो यह वजन घटाने में मददगार होता है। इसमें पानी और फाइबर की मात्रा ज्यादा होती है, जिससे आपको काफी समय तक भूख नहीं लगती। यह  हड्डियों के लिए लाभकारी है और दीमाग को भी दुरुस्त रखता है। टमाटर में सेलेनियम होता है, जो रक्त प्रवाह को बढ़ाता है, जिससे एनिमिया का खतरा कम हो जाता है।

    Best Classic Tomato Soup Recipe - How To Make Classic Tomato Soup

    बादाम का दूध
    बादाम का दूध आयरन, विटामिन-ई और मैग्नीशियम प्रदान करता है, जो आपके स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होते हैं। बादाम के दूध में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट और एंटी इंफ्लेमेटरी गुण कई बीमारियों को दूर करने के मदद कर सकते हैं। बादाम दूध पाचन सुधारने के साथ-साथ कैंसर और हृदय संबंधी बीमारियों से बचाव कर सकता है। यह न सिर्फ सेहत, बल्कि त्वचा और बालों के लिए भी लाभकारी होता है।

    Almond Milk Recipe | Badam Milk - COOKING ROCKING

    गर्म नींबू पानी
    सुबह उठकर गुनगुने पानी में नींबू के रस की कुछ बूंदें मिलाकर पीना बहुत फायदेमंद है। अगर गर्म नींबू पानी को सुपर ड्रिंक कहें तो गलत नहीं होगा। नींबू में विटामिन सी की भरपूर मात्रा होती है जो आपकी इम्यूनिटी को बढ़ाने में मदद करता है। नींबू में मौजूद विटामिन सी कोलेजन फॉर्मेशन के लिए आवश्यक है। इससे आपकी स्किन हेल्दी होती है। लिवर की सेहत मेटाबॉलिज्म का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है और गर्म नींबू पानी पीने से लिवर साफ होता है।

    Why drinking good old nimbu pani in the hot weather is your best bet against summer woes - Lifestyle News

    हर्बल टी
    इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स शरीर की रोगों से लड़ने की क्षमता बढ़ाने के साथ वजन कम करने में मदद करते हैं। यह कोलेस्ट्रॉल लेवल कंट्रोल कम करती है जिससे हृदय रोगों का खतरा घटता है। ब्लड प्रेशर कंट्रोल रखने और कैंसर से बचाने में भी यह काफी इफेक्टिव है। चाय में कैफीन और एल-थीनिन होता है, जो सेरोटोनिन और डोपामाइन के स्तर को बढ़ाता है और अतिरिक्त कोर्टिसोल को भी कम करता है। हर्बल टी जैसे कैमोमाइल, पिपरमिंट, अदरक और लैवेंडर चाय डी-स्ट्रेसिंग के लिए काफी प्रभावी हैं।

    Herbal Tea Benefits: 8 ways herbal tea benefits your health



    Source link

    Ind vs Eng: इंग्लैंड के खिलाफ पहले दो टेस्ट के लिए टीम इंडिया का ऐलान, विराट, हार्दिक और ईशांत की वापसी, अक्षर पटेल नया चेहरा

    0


    डिजिटल  डेस्क, मंबई। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज जीतने के साथ ही भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने इंग्लैंड के खिलाफ आगामी घरेलू टेस्ट श्रृंखला के पहले दो मैच के लिए टीम इंडिया का ऐलान कर दिया है। नए चयनकर्ता चेतन शर्मा की अध्यक्षता में हुई बैठक में 18 सदस्यीय दल को चुना गया। इसमें कप्तान विराट कोहली, इशांत शर्मा और हार्दिक पांड्या की वापसी हुई, जबकि गेंदबाजी ऑलराउंडर अक्षर पटेल को भी शामिल किया गया है। हालांकि ऑस्ट्रेलिया में आखिरी टेस्ट में डेब्यू करने वाले टी नटराजन को स्क्वॉड में शामिल नहीं किया गया है। बैठक में कप्तान विराट कोहली और चार अन्य चयनकर्ता भी शामिल हुए।

    ब्रिस्बेन में जीतने वाली टीम के 9 खिलाड़ियों को मौका मिला
    ब्रिस्बेन के गाबा में जीतने वाली टीम के 9 मेंबर्स इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज के लिए चुने गए हैं। हालांकि तेज गेंदबाज टी नटराजन जगह नहीं बना पाए। मैच के दौरान चोटिल हुए नवदीप सैनी को भी बाहर रखा गया। हार्दिक पांड्या की 29 महीने बाद टेस्ट टीम में वापसी हुई है। उन्होंने अपना आखिरी टेस्ट अगस्त 2018 में इंग्लैंड के खिलाफ ही खेला था।

    चोटिल बुमराह और अश्विन बरकरार, ईशांत की वापसी
    चोटिल ईशांत शर्मा भी टीम में वापस लौटे हैं। चौथा टेस्ट नहीं खेलने वाले जसप्रीत बुमराह और अश्विन टीम में बरकरार हैं। पर, तीसरा टेस्ट ड्रॉ करवाने वाले चोटिल हनुमा विहारी को जगह नहीं मिली है। वहीं, चोट के कारण ही ऑस्ट्रेलिया दौरा छोड़कर वापस आने वाले केएल राहुल को दूसरे टेस्ट के लिए टीम में रखा गया है। अगर वो फिट रहे तो जगह बना सकते हैं। पहले 2 टेस्ट के लिए 4 स्पिनर्स चुने गए हैं। रवींद्र जडेजा चोट की वजह से बाहर हैं, लेकिन डेब्यू टेस्ट में 4 विकेट लेने और फिफ्टी लगाने वाले वाशिंगटन सुंदर की जगह बरकरार है। उनके अलावा ऑस्ट्रेलिया दौरे में एक भी टेस्ट नहीं खेलने वाले कुलदीप भी टीम में बरकरार हैं। स्पिनर्स की स्क्वॉड में अक्षर पटेल को भी रखा गया है, जो अपना डेब्यू कर सकते हैं।

    मुख्य दल के अलावा चार अन्य खिलाड़ियों केएस भरत (विकेटकीपर), अभिमन्यु ईस्वरन, शाहबाज नदीम और राहुल चाहर को भी स्टैंडबाई के रूप में शामिल किया गया है। इन्हें किसी खिलाड़ी के चोटिल होने की स्थिति में टीम में शामिल किया जाएगा। इनके अलावा नेट गेंदबाज के तौर पर अंकित राजपूत, आवेश खान, संदीप वॉरियर, कृष्णप्पा गौतम और सौरभ कुमार को शामिल किया गया है।

    गौरतलब है कि अगले महीने इंग्लैंड की टीम भारत के दौरे पर आएगी जहां दोनों टीमें चार टेस्ट मैचों की सीरीज खेलेंगी। सीरीज का पहला मैच पांच फरवरी से चेन्नई के एमए चिदंबरम स्टेडियम में खेला जाएगा।

    पहले दो टेस्ट के लिए टीम:
    विराट कोहली (कप्तान), अजिंक्य रहाणे, रोहित शर्मा, चेतेश्वर पुजारा, शुभमन गिल, मयंक अग्रवाल, ऋषभ पंत, ऋद्धिमान साहा, हार्दिक पंड्या, केएल राहुल, आर अश्विन, वाशिंगटन सुंदर, कुलदीप यादव, अक्षर पटेल, जसप्रीत बुमराह, इशांत शर्मा, मोहम्मद सिराज, शार्दुल ठाकुर 

    वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप में भारत टॉप पर
    बता दें कि ब्रिस्बेन में जीत के बाद वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप में ऑस्ट्रेलिया की जगह अब भारत टॉप पर आ गया है। वहीं, न्यूजीलैंड दूसरे और ऑस्ट्रेलिया तीसरे नंबर पर पहुंच गया है। भारत को टेस्ट रैंकिंग में भी फायदा हुआ है। टीम इंडिया अब न्यूजीलैंड के बाद दूसरे नंबर पर आ गई है, जबकि ऑस्ट्रेलिया टेस्ट रैंकिंग में दूसरे से तीसरे नंबर पर पहुंच गई है। टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंचने के लिए इंग्लैंड के खिलाफ टीम इंडिया को घरेलू परिस्थितियों का लाभ मिलेगा। 

    ऐसे वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंच सकता है भारत 
    बता दें कि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ब्रिस्बेन में जीत के साथ ही भारत के 71.67 पर्सेंटेज पॉइंट्स (PCT) हो गए हैं और वह टॉप पोजिशन पर है। न्यूजीलैंड 70 PCT के साथ दूसरे नंबर पर आ गया हैं। अब तक टॉप पर बरकरार ऑस्ट्रेलिया 69.2 PCT के साथ तीसरे नंबर पर है। न्यूजीलैंड से ऊपर बने रहने के लिए टीम इंडिया को इंग्लैंड के खिलाफ 5 फरवरी से शुरू होने वाली सीरीज में 80 प्वॉइंट्स की जरूरत होगी। यदि भारत चार मैचों की सीरीज 2-0 से जीत लेता है तो वह न्यूजीलैंड से ऊपर रहेगा और फाइनल में पहुंच जाएगा। वहीं, सीरीज 3-1 से जीतने पर भारत को 90 पॉइंट मिलेंगे। इस स्थिति में भी भारत न्यूजीलैंड से ऊपर रहेगा और आसानी से फाइनल में पहुंच जाएगा।



    Source link