Friday, October 30, 2020
More
    Home Blog

    भाजपा के लिए मुख्य चुनौती बनकर उभरे अखिलेश

    0

    लखनऊ, 30 अक्टूबर (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश में राज्यसभा चुनाव को लेकर समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के बीच विवाद ने दोनों दलों के बीच फिर से कड़वाहट पैदा कर दी है। मगर फिलहाल स्थिति सपा के लिए कारगर होती दिख रही है।

    सपा अब राज्य में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के लिए मुख्य चुनौती बनकर उभर रही है। यहां तक कि पार्टी के भीतर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के कट्टर आलोचक भी स्वीकार कर रहे हैं कि उनके मास्टरस्ट्रोक ने विधानसभा चुनाव से पहले पार्टी का पलड़ा भारी कर दिया है।

    पार्टी के वरिष्ठ नेता मुलायम सिंह यादव से निकटता रखने वाले सपा के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, बसपा के साथ गठबंधन की अखिलेश की गलती से पिछले साल के लोकसभा चुनावों में हार का सामना करना पड़ा था, लेकिन अब वह इसके लिए तैयार हो गए हैं।

    बसपा अध्यक्ष मायावती गुरुवार को सपा के जाल में तब फंस गईं, जब उन्होंने घोषणा की कि वह अगले विधान परिषद चुनाव में सपा को हराने के लिए भाजपा का समर्थन करने में भी संकोच नहीं करेंगी।

    पार्टी के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा, उन्होंने आखिरकार दुनिया को बता दिया है कि वह भाजपा के साथ हाथ मिला रही हैं। इन सभी वर्षो में उन्होंने अल्पसंख्यकों को गुमराह किया है, लेकिन अब वह पूरी तरह से बेनकाब हो गई हैं।

    उन्होंने आगे कहा, बेशक हमारे स्वतंत्र उम्मीदवार का नामांकन बिना किसी वैध कारण के रद्द कर दिया गया, लेकिन हमने राजनीतिक रूप से बढ़त हासिल कर ली है।

    उन्होंने यह भी कहा कि बसपा में जो नेता भाजपा के खिलाफ हैं, अब वे सपा की ओर देख रहे हैं।

    समाजवादी पार्टी को इस तथ्य को लेकर उत्साहित है कि अब उत्तर प्रदेश में वही सत्तारूढ़ भाजपा के लिए मुख्य चुनौती है और 2022 के विधानसभा चुनावों में भाजपा विरोधी मतों का विभाजन बहुत कम हो पाएगा।

    कांग्रेस, जिसने शुरू में उत्तर प्रदेश में विपक्ष के तौर पर एक बड़ी ताकत के रूप में उभरने का दावा किया था, वह अपनी ही पार्टी में आपसी मतभेद से परेशान है।

    उत्तर प्रदेश में होने वाले उपचुनाव से पहले कांग्रेस को एक बड़ा झटका लगा है। उन्नाव से 2009 में सांसद का चुनाव जीतने वाली कद्दावर नेता अन्नू टंडन ने कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने पार्टी की नीतियों पर नाराजगी भी जताई। इसके अलावा उन्होंने अप्रत्यक्ष रूप से प्रियंका गांधी वाड्रा पर भी निशाना साधा। इसलिए यह कहा जा सकता है कि उत्तर प्रदेश में मजबूत विपक्ष के तौर पर वर्तमान परिस्थिति सपा के पक्ष में दिखाई दे रही है।

    एकेके/आरएचए



    Source link

    डिविलियर्स ने इंसानियत, बराबरी को लेकर जारी किया एक गाना

    0

    नई दिल्ली, 30 अक्टूबर (आईएएनएस)। नस्लवाद के खिलाफ लड़ाई अब क्रिकेट के मैदान तक पहुंच गई है। खिलाड़ी इसे लेकर मैदान पर नंगे पैर घेरा बनाते हैं और घुटने के बल बैठे देखे जा सकते हैं। दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान अब्राहम डिविलियर्स ने मैदान के बाहर इसके खिलाफ एक अलग रुख अख्तियार किया है और एक गाना गाया है।

    यह गाना इंसानियत और बराबरी का संदेश देता है। इस समय आईपीएल-13 में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर के लिए खेल रहे डिविलियर्स ने इस गाने का एक प्रोमो जारी किया है।

    उन्होंने इंस्टाग्राम पर शुक्रवार को इस गाने का प्रोमो जारी किया और इस गाने के शब्द कैप्शन में लिखे, एज वी रन थ्रू द फायर वी फाइन्ड दी फ्लैम।

    यह गाना दक्षिण अफ्रीका के गायक कारेन जोइड और एनडलोव यूथ चेयर ने लिखा और गाया है।

    डिविलियर्स ने अपने इंस्टाग्राम पर लिखा, कारेन जोइड और चोइर ने यह गाना लिखा है। यह गाना उम्मीद और हमारे एक साथ मिलकर रहने का गाना है।

    डिविलियर्स ने इस पूरे गाने का वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा, हम सभी काफी अलग है, लेकिन एक साथ खड़े होकर हम सही पिक्च र बनाते हैं।

    इस वीडियो में बेंगलोर और भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली, बेंगलोर टीम के साथी युजवेंद्र चहल और डिविलियर्स के दक्षिण अफ्रीका के साथी डेल स्टेन, कागिसो रबादा, क्रिस मौरिस हैं। डिविलियर्स के बेटे भी इस वीडियो की शुरुआत में देखे जा सकते हैं।

    एकेयू/जेएनएस



    Source link

    पंजाब पुलिस ने दुष्कर्म और हत्या मामले मे 9 दिनों में पेश किया चालान

    0

    चंडीगढ़, 30 अक्टूबर (आईएएनएस)। मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के आदेश पर तेजी से अमल करते हुए, पंजाब पुलिस ने होशियारपुर में छह साल की दलित लड़की से दुष्कर्म और हत्या के मामले में शुक्रवार को अदालत में चालान पेश कर दिया। पुलिस ने मात्र 10 दिनों से कम समय में जांच पूरी कर ली।

    मामले में तेजी से कार्रवाई के लिए एक विशेष अभियोजक नियुक्त किया गया था। इसमें राज्य सरकार ने पीड़ित को जल्द न्याय दिलाने के लिए फास्ट ट्रैक ट्रायल की मांग की है।

    इस मामले के दोनों आरोपियों को 21 अक्टूबर की रात को ही गिरफ्तार कर लिया गया था। दोनों ने हाथरस मामले से तुलना कर इसे एक राजनीतिक रंग देने की कोशिश की थी।

    इस घटना को गंभीरता से लेते हुए, मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने पंजाब पुलिस को 10 दिनों के भीतर अदालत में अपनी चार्जशीट पेश करने का निर्देश दिया था।

    मुख्यमंत्री के निर्देश के अनुसार, पुलिस ने जांच पूरी करने के बाद नौ दिनों के रिकॉर्ड समय में नीलम अरोड़ा की विशेष अदालत में अपनी रिपोर्ट पेश कर दी।

    एसकेपी



    Source link

    दिल्ली : 392 करोड़ रुपये के इनपुट टैक्स क्रेडिट धोखाधड़ी मामले में शख्स गिरफ्तार

    0

    नई दिल्ली, 30 अक्टूबर (आईएएनएस)। दिल्ली के एक शख्स को जाली दस्तावेजों पर फर्जी फर्म बनाने, संचालित करने और 392 करोड़ रुपये से अधिक का इनपुट टैक्स धोखाधड़ी करने के आरोप में गुरुग्राम जोनल यूनिट की जीएसटी इंटेलिजेंस महानिदेशालय (डीजीजीआई) की एक टीम ने गिरफ्तार किया।

    डीजीजीआई की जांच से पता चला है कि आरोपी कबीर कुमार ने कागजों पर कई मालिकाना कंपनियां बनाईं, जिन्हें गुरुग्राम, नई दिल्ली, फरीदाबाद, सोलन, नोएडा, झज्जर और सिरसा आदि में दिखाया गया था।

    वित्त मंत्रालय के एक बयान में कहा गया कि कबीर ने शहर से भागने की कोशिश की थी, लेकिन कस्टम और सीआईएसएफ अधिकारियों के सहयोग से डीजीजीआई अधिकारियों द्वारा आईजीआई हवाईअड्डे पर उसे धर लिया गया।

    पूछताछ के दौरान उसने 31 फर्जी कंपनियां बनाने की बात स्वीकार की जिन्होंने फर्जी चालान की राशि 2,993.86 करोड़ रुपये और इनपुट टैक्स क्रेडिट कुल 392.37 करोड़ रुपये की दर्ज की थी।

    उसके पास से एक लैपटॉप, मोबाइल फोन और 140 सिम कार्ड जब्त किए गए।

    डीजीजीआई ने कहा कि दिल्ली में कई स्थानों पर जांच की गई और दस्तावेजी साक्ष्य और रिकॉर्ड किए गए बयान के आधार पर यह पाया गया कि कबीर जाली दस्तावेजों पर फर्जी फर्म बनाने के इस रैकेट का संचालन करने वाला मुख्य व्यक्ति था।

    गुरुवार को गिरफ्तार किए गए कबीर को दिल्ली में एक ड्यूटी मजिस्ट्रेट ने न्यायिक हिरासत में भेज दिया था।

    मामले में आगे की जांच जारी है।

    वीएवी/आरएचए



    Source link

    कनाडा : 16 खिलाड़ियों की जान लेने वाला पंजाबी ट्रक चालक निर्वासित होगा

    0

    टोरंटो, 30 अक्टूबर (आईएएनएस)। कनाडा में अप्रैल 2018 में लाल बत्ती (रेड लाइट) जंप करके एक भीषण दुर्घटना को अंजाम देने वाले एक भारतीय मूल के पंजाबी ट्रक चालक को अब भारत में निर्वासन का सामना करना होगा।

    कनाडा में भारतीय मूल के ट्रक ड्राइवर जसकीरत सिंह सिद्धू (31) पर एक बस दुर्घटना के लिए जिम्मेदार होने का आरोप है। इस दुर्घटना में जूनियर हॉकी टीम के 16 खिलाड़ियों की मौत हो गई थी। इसे कनाडा के खेल इतिहास की सबसे बुरी दुर्घटना माना गया था।

    सिद्धू ने छह अप्रैल, 2018 को सस्केचेवान प्रांत के आर्मले शहर के पास एक चौराहे पर हॉकी खिलाड़ियों को ले जा रही एक बस में अपना सेमी-ट्रेलर (ट्रक) से टक्कर मार दी थी।

    लगभग 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से ड्राइविंग करते हुए, सिद्धू ने लाल बत्ती के संकेत को ध्यान में नहीं रखा, अपने ट्रेलर को बस में घुसा दिया, जो पहले से ही चौराहे पर थी।

    2013 में पंजाब से कनाडा आए सिद्धू आठ साल और मार्च 2019 में खतरनाक ड्राइविंग के लिए पांच साल की सजा सुनाई गई थी।

    संबंधित अधिकारियों की ओर से निर्वासन का निर्णय अप्रैल 2021 तक आने की संभावना है।

    सिद्धू के वकील माइकल ग्रीन ने गुरुवार को कहा कि चूंकि उनके मुवक्किल की कोई आपराधिक पृष्ठभूमि नहीं है, इसलिए उन्हें निर्वासित नहीं किया जाना चाहिए।

    वकील ने कहा, सिद्धू स्पष्ट रूप से उस तरह का आदमी नहीं है जो एक और अपराध करने जा रहा है। इसलिए सभी चीजों को एक साथ रखें। यह एक (आव्रजन) अधिकारी के लिए एक बहुत कठिन निर्णय होने जा रहा है।

    सिद्धू का निर्वासन गुरुवार को रेडियो शो का एक प्रमुख विषय बना रहा, जिसमें कनाड़ा के निवासी इस बात पर विभाजित दिखाई दिए कि क्या उन्हें देश में रहने दिया जाए या उनका निर्वासित होना सही कदम होगा।

    एकेके/आरएचए



    Source link

    देखें पीएम का गुजरात दौरा: मोदी ने हाथ पर बैठाए तोते, क्रूज की सवारी की 

    0


    डिजिटल डेस्क, गांधीनगरप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज से दो दिवसीय गुजरात दौरे पर हैं। पीएम मोदी शुक्रवार को गांधीनगर से नर्मदा जिले के केवडिया पहुंचे। उन्होंने केवडिया में टूरिज्म से जुड़े कई प्रोजेक्ट्स का उद्घाटन किया। इनमें आरोग्य वन और जंगल पार्क भी शामिल हैं। शुक्रवार सुबह प्रधानमंत्री गांधीनगर पहुंचे और पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल को श्रद्धांजलि दी। इसके बाद केवडिया में आरोग्य वन का उद्घाटन किया। इस वन में 380 प्रजातियों की पांच लाख से अधिक औषधियां हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने यहां गोल्फ कार्ट में बैठ पूरे वन का चक्कर लगाया, इसके अलावा सेल्फी प्वाइंट का उद्घाटन किया। एकता का संदेश देने वाले एकता मॉल और बच्चों के लिए पोषक पार्क का उद्घाटन किया। इस दौरान प्रधानमंत्री ने आरोग्य वन का भ्रमण भी किया। 

    फोटो में देखें पीएम का गुजरात दौरा:—

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सरदार पटेल प्राणी उद्यान का दौरा किया

    चिल्ड्रन न्यूट्रीशन पार्क के भ्रमण के दौरान पीएम मोदी

    Image

    डिजिटल इन्फॉर्मेशन सेंटर में नरेंद्र मोदी

    डिजिटल इन्फॉर्मेशन सेंटर में नरेंद्र मोदी।

    Image

    पीएम मोदी ने किया जंगल सफारी का उद्घाटन

    छवि

    छवि

    पीएम मोदी ने किया एकता मॉल का उद्घाटन
    Image

    पीएम मोदी ने पूर्व सीएम केशुभाई पटेल को दी श्रद्धांजलि
    Image

    क्या है आरोग्य वन
    केवड़िया में स्टेच्यू ऑफ यूनिटी स्थित है। आरोग्य वन भारत की समृद्ध फूलों की परंपराओं, विविध पौधों के साथ-साथ कल्याण और अच्छे स्वास्थ्य के पारंपरिक तरीकों पर केंद्रित है। इस वन में पांच लाख से अधिक औषधियां हैं। यह वन 17 एकड़ में फैला है।

    क्या है एकता मॉल?
    प्रधानमंत्री मोदी ने केवड़िया में जिस एकता मॉल का उद्घाटन किया, वह कई खासियतों से युक्त है। इस मॉल में देश में मौजूद हस्तकलाओं और पारंपरिक उत्पादों का प्रदर्शन किया जाएगा। यहां पर पूरे देश से आए उत्पाद प्रदर्शित किए जाएंगे। जिसका उद्देश्य एकता का संदेश देना है। यह मॉल 35 हजार वर्गफुट में फैला हुआ है। मॉल में 20 एम्पोरियम हैं, जो प्रत्येक राज्य का प्रतिनिधत्व करते हैं। एकता मॉल को केवल 110 दिनों में निर्मित किया गया है।

    बच्चों के लिए पोषक पार्क
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केवड़िया में बच्चों के लिए पोषक पार्क (न्यूट्रिशन पार्क) का भी उद्घाटन किया। यह दुनिया का पहला तकनीकी आधारित बच्चों के लिए पोषक पार्क है जो कि 35 हजार वर्गफुट में फैला हुआ है। पार्क में एक न्यूट्री टेन भी चलाई जाएगी। जिसके स्टेशन के नाम भी काफी रोचक रखे गए हैं। जिनके फलशाखा गृहम, पायोनागिरी, अन्नपूर्णा, पोषण पुराण, स्वस्थ भारत नाम दिए गए हैं। पार्क का उद्देश्य विभिन्न गतिविधियों के जरिए पोषक भोजन के प्रति जागरूकता फैलाना है। पार्क में इसके लिए मिरर मेज, 5डी वर्चुअल रियल्टी थिएटर और ऑगुमेंटेंड रियल्टी गेम की भी व्यवस्था की गई है।



    Source link

    आंध्र प्रदेश : राज्यपाल मुख्यमंत्री, ने लोगों को ईद-मिलाद-उन-नबी की दी शुभकामनाएं

    0

    अमरावती, 30 अक्टूबर (आईएएनएस)। आंध्र प्रदेश के राज्यपाल बिस्वा भूषण हरीचंदन और मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी ने शुक्रवार को मुस्लिमों के पर्व ईद-मिलाद-उन-नबी पर लोगों को शुभकामनाएं दी।

    राज्यपाल ने कहा, मैं पैगंबर मुहम्मद के जन्मदिन ईद मिलाद-उन-नबी के अवसर पर मुस्लिम भाइयों को हार्दिक बधाई देता हूं। पैगंबर मोहम्मद का जीवन मानव जाति के लिए प्रेम, भाईचारे और सदाचार की एक प्रेरक गाथा है।

    उन्होंने कहा कि शांति और सद्भावना के बीच पैगंबर मोहम्मद के जन्मदिन की शुभकामनाएं।

    रेड्डी ने शुभकामनाएं देते हुए कहा कि पैगंबर ने शांति, सद्भाव और सार्वभौमिक भाईचारे का प्रचार करने का काम किया है।

    –आईएएनस

    एवाईवी/आरएचए



    Source link

    सीएसए के अंतरिम बोर्ड में शामिल हुए लोगार्ट

    0

    जोहान्सबर्ग, 30 अक्टूबर (आईएएनएस)। दक्षिण अफ्रीका सरकार ने क्रिकेट साउथ अफ्रीका (सीएसए) को चलाने के लिए नौ सदस्यीय अंतरिम बोर्ड का गठन किया है।

    दक्षिण अफ्रीका इस नए बोर्ड की अध्यक्षता जैक याकूब करेंगे जिसमें सीएसए के पूर्व अध्यक्ष हारून लोगार्ट भी शामिल हैं।

    समिति में वेस्टर्न प्रोविंस और केप कोबरास के मुख्य कार्यकारी आंद्रे ओडेनडाल भी शामिल हैं। उनके अलावा ओमफिले रामेला, स्टावरोस निकोलो, जुडिथ फरवरी, आंदिले डॉन मबाथा, जालानो वान्या और एनकेको कैरोलिन मामपुरु।

    आंतरिक रिपोर्ट के मुताबिक सीएसए काफी संघर्ष कर रही है। दक्षिण अफ्रीका की सरकार और क्रिकेट बोर्ड के बीच विवाद चल रहा था। यह विवाद क्रिकेट संघ के मामलों की जांच को लेकर हुआ।

    थाबोंग मूरे को सीएसए के मुख्य कार्यकारी अधिकारी के पद से हटा दिया था। क्रिस नेनजानी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। यह दोनों चीजें इसी साल अगस्त में हुई थी।

    एकेयू/जेएनएस



    Source link

    विधानसभा उपचुनाव के बाद कर्नाटक मंत्रिमंडल का विस्तार : मुख्यमंत्री

    0

    बेंगलुरू, 30 अक्टूबर (आईएएनएस)। कयासों पर विराम लगाते हुए, कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी.एस. येदियुरप्पा ने शुक्रवार को कहा कि राज्य में 3 नवंबर को दो सीटों पर विधानसभा उपचुनाव हो जाने के बाद, वह मंत्रिमंडल का विस्तार करेंगे।

    येदियुरप्पा ने यहां पत्रकारों से कहा, मंत्रिमंडल विस्तार बेंगुलुरू के आर.आर नगर और तुमकुरू के सिरा विधानसभा क्षेत्र में 3 नवंबर को होने वाले उपचुनाव और 10 नवंबर को इसके नतीजे आने के बाद किए जाएंगे।

    मुख्यमंत्री 10 नवंबर को नई दिल्ली जाने की योजना बना रहे हैं, ताकि मंत्रिमंडल विस्तार के बारे में वह पार्टी अध्यक्ष जे.पी. नड्डा और अन्य वरिष्ठ नेताओं से चर्चा कर सकें।

    येदियुरप्पा ने कहा, मैं पार्टी हाईकमान, नड्डा और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह सहित अन्य केंद्रीय नेताओं से परामर्श के बाद विधायकों को मंत्री बनाए जाने की सूची को अंतिम रूप दूंगा।

    आरएचए/



    Source link

    पंजाब से पराली का धुंआ दिल्ली पहुंचना लगभग नामुमकिन : पीएयू विशेषज्ञ

    0

    चंडीगढ़, 30 अक्टूबर (आईएएनएस)। पंजाब के खेतों में धान की पराली जलाने के कारण पैदा हुए धुंए के 300-400 किलोमीटर दूर पहुंचकर दिल्ली की वायु गुणवत्ता को प्रभावित करना लगभग नामुमकिन है। लुधियाना स्थित पंजाब एग्रीकल्चरल यूनिवर्सिटी (पीएयू) के विशेषज्ञों ने शुक्रवार को यह बात कही।

    यह अनुमान जलवायु परिवर्तन और कृषि मौसम विज्ञान विभाग के शोधकर्ताओं के 2017 और 2019 के बीच अक्टूबर और नवंबर के दौरान पंजाब में हवा की गति पर आधारित है।

    अध्ययन को संकलित करने वालीं प्रभजोत कौर सिद्धू ने आईएएनएस को बताया कि अगर पंजाब से धुआं हरियाणा और दिल्ली की ओर बढ़ता है, तो हवा की गति 4-5 किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक होनी चाहिए और इसकी दिशा उत्तर-पश्चिम या कम से कम पश्चिम होनी चाहिए।

    उन्होंने कहा कि अध्ययन के तीन वर्षो में, केवल एक दिन 7 नवंबर, 2019 को हवा की गति 5 किलोमीटर/ घंटा से बढ़कर 5.9 किलोमीटर/ घंटा हो गई थी।

    उन्होंने कहा, वास्तव में, उस दिन हवा की दिशा दक्षिणपूर्व की ओर थी, जिसका मतलब है कि हरियाणा और दिल्ली जैसे पड़ोसी राज्यों से हवा पंजाब की ओर बह रही थी।

    उन्होंने कहा कि इसलिए पंजाब से आने वाली दक्षिण पूर्वी हवाएं द्वारा पड़ोसी राज्यों में वायु की गुणवत्ता को प्रभावित करने की संभावना नहीं हैं।

    अक्टूबर और नवंबर में पारे में गिरावट के साथ, हवा के प्रवाह के फॉर्मेशन में कमी आई है।

    सिद्धू ने कहा, इन दो महीनों के दौरान एक स्थिर वायुमंडलीय स्थिति का निर्माण होता है जिसमें केवल वायु प्रवाह की थोड़ी वर्टिकल गति होती है जबकि वायु की क्षैतिज गति भी कम हो जाती है। भूसा जलाने और अन्य प्रदूषण स्रोतों के कारण धूल और धुएं के कण वायुमंडल में एकत्र हो जाते हैं।

    उन्होंने कहा कि यह एक बंद कमरे की स्थिति की तरह है जिसमें मुश्किल से कुछ भी बाहर से आता है या बाहर जाता है।

    उत्तर भारत के मैदानी इलाकों में, विशेष रूप से धान उगाने वाले राज्यों में, प्रत्येक राज्य अपने ही प्रदूषकों से त्रस्त है।

    सुखजीत कौर और संदीप सिंह संधू सहित उनके साथी शोधकर्ताओं ने 10 स्टेशनों – गुरदासपुर, बल्लोवाल सौंखरी, चंडीगढ़, अमृतसर, लुधियाना, पटियाला, अंबाला, बठिंडा, फरीदकोट और अबोहर में औसत हवा की गति संकलित की।

    उत्तरी राज्यों के लिए, अक्टूबर बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि तापमान कम हो जाता है और दशहरा और दिवाली के दौरान पटाखे जलाने के कारण वायु प्रदूषण का स्तर बढ़ जाता है।

    वीएवी/आरएचए



    Source link